https://www.googletagmanager.com/gtag/js?id=UA-86233354-15
Biography Hindi

अमीर खुसरो की जीवनी – Amir Khusrow Biography Hindi

अमीर खुसरो चौदहवी सदी के लगभग दिल्ली के समीप रहने वाले कवि शायर,गायक और संगीतकार थे। अमीर खूसरो को प्रथम मुस्लिम कवि भी कहा जाता है। अमीर खुसरो पहले व्यक्ति थे जिन्होने हिन्दी, हिंदवी और फारसी में पहली बार लिखा था। तो आइये आज हम इस आर्टिकल मे आप को अमीर खुसरो की जीवनी – Amir Khusrow Biography Hindi बताते है ।

अमीर खुसरो की जीवनी – Amir Khusrow Biography Hindi

अमीर खुसरो की जीवनी

जन्म

अमीर खुसरो का जन्म 1253 ई. में एटा, उतर प्रदेश के पटियाली नामक कस्बे में हुआ। वे लाचन जाति से संबंध रखते थे। उनके पिता का नाम सैफुद्दीन खुसरो और माता का नाम दौलत नाज़ था। इनकी माँ बलबन के युद्ध मंत्री इमादुतुल की पुत्री थी वो एक भारतीय मुसलमान महिला थी उनका पूरा नाम अबुल हसन यामीन उद्दीन खुसरो था।

अमीर खुसरो के गुरु का नाम

अमीर खुसरो के गुरु का नाम शेख निजामुद्दीन औलिया था। वे अफगान युग के महान संत थे। 8 वर्ष की आयु अमीर खुसरो इनके शिष्य बन गए थे. इनकी प्ररेणा से ही ये कवि, संगीतकार बने। अमीर खुसरो खड़ी बोली के लोकप्रिय कवि माने जाते है।

तबले का आविष्कार

तबले को बहुत ही पुराना वाद्ययंत्र माना गया है। कहा जाता है की अमीर खुसरो ने पखावज के दो टुकड़े करके तबले का आविष्कार किया था।

रचना

1289 ई. में अमीर खूसरो मसनवी किरानुससादैन की रचना। गुलाम वंश के बाद जलालुद्दीन खिजली को दिल्ली का सुल्तान बना दिया गया। उसने खुसरो को अमीर की उपाधि से समानित किया।

जलालूद्दीन की प्रशंसा में मिफतोलफतह नाम के ग्रन्थ की रचना की ,बाद मे जलालूद्दीन केभतीजे ने इन्हे राज्य कवि की उपाधि से सम्मानित किया। अमीर खुसरो ने पाँच ग्रंथो की रचना की ,वे इस प्रकार है-  मल्लोल अनवर, शिरीन खुसरो, मजनू लैला, आईने-ए-सिकंदरी, हश्त विहिश्त आदि, ये ग्रन्थ बाद में पंच-गंज नाम से प्रसिद्ध हुई।

निधन

अमीर खुसरो का निधन 1325 में दिल्ली में हुआ था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close