भीमराव अंबेडकर की जीवनी – Bhimrao Ambedkar Biography Hindi

Spread the love

भीमराव अंबेडकर भारतीय बहुज्ञ, विधिवेत्ता, अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ, और समाज सुधारक थे। चिंतक, समाज सुधारक बाबा साहेब अंबेडकर का जन्म 1891 में मध्यप्रदेश के महू में हुआ था। 1915 में लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से m. a. की डिग्री मिली . उन्होने गरीबों पर हो रहे अत्याचार के विरुद्ध आवाज उठाने के लिए बहिष्कृत भारत, मूकनायक, जनता नाम जैसे साप्ताहिक पत्र निकाले। वे पहले कानून मंत्री बने। 1951 में संसद में हिंदू कोड बिल मसौदे को रोक के जाने के बाद नेहरू मंत्रिमंडल से इस्तीफा दिया। 14 अक्टूबर 1956 को अपने समर्थकों के साथ पंचशील को अपनाते हुए बौद्ध धर्म ग्रहण किया। भीमराव अंबेडकर को महाशक्तियों के दलित आंदोलन की शुरुआत करने का श्रेय दिया जाता है उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया भारत का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार है अपनी महत्वपूर्ण उपलब्धियों तथा देश की अमूल्य सेवा के फलस्वरूप डॉ आंबेडकर को आधुनिक युग का मनु कहते सम्मानित किया गया है. तो आइए आज इस आर्टिकल में हम आपको भीमराव अंबेडकर की जीवनी – Bhimrao Ambedkar Biography Hindi के बारे में बताएंगे.

भीमराव अंबेडकर की जीवनी – Bhimrao Ambedkar Biography Hindi

डॉ भीमराव आंबेडकर की जीवनी

जन्म

भीमराव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को मऊ, मध्य प्रदेश में हुआ था. आम्बेडकर के दादा का नाम मालोजी सकपाल था, तथा पिता का नाम रामजी सकपाल और माता का नाम भीमाबाई था। वे अपने माता-पिता के 14वीं औरअंतिम संतान थे.1896 में आम्बेडकर जब पाँच वर्ष के थे तब उनकी माँ की मृत्यू हुई थी। इसलिए उन्हें बुआ मीराबाई संभाला था, जो उनके पिता की बडी बहन थी। मीराबाई के कहने पर रामजी ने जीजाबाई से पुनर्विवाह किया, ताकि बालक भीमराव को माँ का प्यार मिल सके। वे एक मराठी परिवार से थे तथा उनका पूरा नाम बाबा साहेब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर था। भीमराव का जन्म निम्न वर्ण की महार जाति में हुआ था । उस समय अंग्रेज निम्न वर्ण की जातियों से नौजवानों को फौज में भर्ती कर रहे थे अंबेडकर के पूर्वज लंबे समय तक ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के सेना में कार्य करते रहे और भीमराव के पिता रामजी अंबेडकर सूबेदार थे और कुछ समय तक एक फौजी स्कूल में अध्यापक के रूप में भी कार्य किया उनके पिता ने मराठी और अंग्रेजी में औपचारिक शिक्षा की डिग्री प्राप्त की शिक्षा का महत्व समझते थे और भीमराव के पढ़ाई-लिखाई पर उन्होंने काफी ध्यान दिया. अप्रैल 1906 में, जब भीमराव लगभग 15 वर्ष आयु के थे, तो नौ साल की लड़की रमाबाई से उनका विवाह  कर दिया गया । तब वे पांचवी अंग्रेजी कक्षा पढ रहे थे। उन दिनों भारत में बाल-विवाह का काफी प्रचलन था। रमाबाई और भीमराव को पाँच बच्चे भी हुए – जिनमें चार पुत्र – यशवंत, रमेश, गंगाधर, राजरत्न और एक पुत्री- इन्दु थी। किंतु ‘यशवंत’ को छोड़कर सभी संतानों की बचपन में ही मृत्यु हो गई थीं।

अपनी पहली पत्नी रमाबाई की लंबी बीमारी के बाद 1935 में निधन हो गया। 1940 के दशक के अंत में भारतीय संविधान के मसौदे को पूरा करने के बाद, वह नींद की कमी से पीड़ित थे, उनके पैरों में न्यूरोपैथिक दर्द था, और इंसुलिन और होम्योपैथिक दवाएं ले रहे थे। वह इलाज के लिए मुम्बई गए, और वहां डॉक्टर शारदा कबीर से मिले, जिनके साथ उन्होंने 15 अप्रैल 1948 को नई दिल्ली में अपने घर पर विवाह किया था। डॉक्टरों ने एक ऐसे जीवन साथी की सिफारिश की जो एक अच्छा खाना पकाने वाली हो और उनकी देखभाल करने के लिए चिकित्सा ज्ञान हो। डॉ॰ शारदा कबीर ने शादी के बाद सविता आम्बेडकर नाम अपनाया और उनके बाकी जीवन में उनकी देखभाल की। सविता आम्बेडकर, जिन्हें ‘माई’ या ‘माइसाहेब’ कहा जाता था, का 29 मई 2003 को नई दिल्ली के मेहरौली में 93 वर्ष की आयु में निधन हो गया।

शिक्षा

  • भीमाराव आंबेडकर ने सातारा शहर में राजवाड़ा चौक पर स्थित गवर्न्मेण्ट हाईस्कूल (अब प्रतापसिंह हाईस्कूल) में 7 नवंबर 1900 को अंग्रेजी की पहली कक्षा में प्रवेश लिया। उस समय उन्हें ‘भिवा’ कहकर बुलाया जाता था। स्कूल में उस समय ‘भिवा रामजी आंबेडकर’ यह उनका नाम उपस्थिति पंजिका में क्रमांक – 1914 पर अंकित था। जब वे अंग्रेजी चौथी कक्षा की परीक्षा उत्तीर्ण हुए, तब क्योंकि यह अछूतों में असामान्य बात थी, इसलिए भीमराव की इस सफलता को अछूतों के बीच और सार्वजनिक समारोह में मनाया गया, और उनके परिवार के मित्र एवं लेखक दादा केलुस्कर द्वारा खुद की लिखी ‘बुद्ध की जीवनी’ उन्हें भेंट दी गयी। इसे पढकर उन्होंने पहली बार गौतम बुद्ध व बौद्ध धर्म को जाना एवं उनकी शिक्षा से प्रभावित हुए। इसके बाद में उन्होने अपनी माध्यमिक शिक्षा मुंबई के एल्फिंस्टोन रोड पर स्थित गवर्न्मेंट हाईस्कूल में आगे कि शिक्षा प्राप्त की।
  • 1907 में, उन्होंने अपनी मैट्रिक परीक्षा उत्तीर्ण की और अगले वर्ष उन्होंने एल्फिंस्टन कॉलेज में प्रवेश किया, जो कि बॉम्बे विश्वविद्यालय से संबद्ध था। इस स्तर पर शिक्षा प्राप्त करने वाले अपने समुदाय से वे पहले व्यक्ति थे।
  • 1912 तक, उन्होंने बॉम्बे विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र और राजनीतिक विज्ञान में कला स्नातक की शिक्षा प्राप्त की, और बड़ौदा राज्य सरकार के साथ काम करने लगे। उनकी पत्नी ने अभी अपने नये परिवार को स्थानांतरित कर दिया था और काम शुरू किया जब उन्हें अपने बीमार पिता को देखने के लिए मुंबई वापस लौटना पड़ा, जिनका 2 फरवरी 1913 को निधन हो गया।
  • 1913 में, बाबासाहेब 22 साल की आयु में संयुक्त राज्य अमेरिका चले गए वहां उन्हें बड़ौदा के गायकवाड़  द्वारा चलाई गई एक योजना के तहत न्यू यॉर्क शहर स्थित कोलंबिया विश्वविद्यालय में स्नातकोत्तर शिक्षा के अवसर प्रदान करने के लिए तीन साल के लिए 11.50 डॉलर प्रति माह बड़ौदा राज्य की छात्रवृत्ति प्रदान की गई थी। वहां पहुंचने के तुरंत बाद वे लिविंगस्टन हॉल में पारसी मित्र नवल भातेना के साथ रहने लगे।
  • जून 1915 में उन्होंने अपनी कला स्नातकोत्तर (एम॰ए॰) परीक्षा पास की, जिसमें अर्थशास्त्र प्रमुख विषय, और समाजशास्त्र, इतिहास, दर्शनशास्त्र और मानव विज्ञान यह अन्य विषय थे। उन्होंने स्नातकोत्तर के लिए एशियंट इंडियन्स कॉमर्स (प्राचीन भारतीय वाणिज्य) विषय पर शोध कार्य प्रस्तुत किया। आम्बेडकर जॉन डेवी और लोकतंत्र पर उनके काम से काफी प्रभावित थे।
  • 1916 में, उन्हें अपना दूसरा शोध कार्य, नेशनल डिविडेंड ऑफ इंडिया – ए हिस्टोरिक एंड एनालिटिकल स्टडी के लिए दूसरी कला स्नातकोत्तर प्रदान की गई, और अन्ततः उन्होंने लंदन की राह ली।
  • 1916 में अपने तीसरे शोध कार्य इवोल्युशन ओफ प्रोविन्शिअल फिनान्स इन ब्रिटिश इंडिया के लिए अर्थशास्त्र में पीएचडी प्राप्त की, अपने शोध कार्य को प्रकाशित करने के बाद 1927 में अधिकृत रुप से पीएचडी प्रदान की गई।
  • 9 मई को, उन्होंने मानव विज्ञानी अलेक्जेंडर गोल्डनवेइज़र द्वारा आयोजित एक सेमिनार में भारत में जातियां: उनकी प्रणाली, उत्पत्ति और विकास नामक एक शोध पत्र प्रस्तुत किया, जो उनका पहला प्रकाशित पत्र था।
  • 3 वर्ष तक की अवधि के लिये मिली हुई छात्रवृत्ति का उपयोग उन्होंने केवल दो वर्षों में अमेरिका में पाठ्यक्रम पूरा करने में किया और 1916 में वे लंदन गए।

करियर

  • अक्टूबर 1916 में, वे लंदन चले गये और वहाँ उन्होंने ग्रेज़ इन में बैरिस्टर कोर्स के लिए प्रवेश लिया, और साथ ही लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स में भी प्रवेश लिया जहां उन्होंने अर्थशास्त्र की डॉक्टरेट थीसिस पर काम करना शुरू किया।
  • जून 1917 में,मजबूर होकर उन्हें अपना अध्ययन अस्थायी तौरपर बीच में ही छोड़ कर भारत लौट आए क्योंकि बड़ौदा राज्य से उनकी छात्रवृत्ति समाप्त हो गई थी। वापिस लौटते समय उनके पुस्तक संग्रह को उस जहाज से अलग जहाज पर भेजा गया था जिसे जर्मन पनडुब्बी के टारपीडो द्वारा डुबो दिया गया। ये प्रथम विश्व युद्ध का काल था। उन्हें चार साल के भीतर अपने थीसिस के लिए लंदन लौटने की अनुमति मिली। बड़ौदा राज्य के सेना सचिव के रूप में काम करते हुये अपने जीवन में अचानक फिर से आये भेदभाव से डॉ॰ भीमराव आम्बेडकर काफी निराश हो गये और अपनी नौकरी छोड़ एक निजी ट्यूटर और लेखाकार के रूप में काम करने लगे। उन्होंने अपना परामर्श व्यवसाय भी शुरू किया जो उनकी सामाजिक स्थिति के कारण विफल रहा। अपने एक अंग्रेज जानकार मुंबई के पूर्व राज्यपाल लॉर्ड सिडनेम के कारण उन्हें मुंबई के सिडनेम कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकोनोमिक्स मे राजनीतिक अर्थव्यवस्था के प्रोफेसर के रूप में नौकरी मिल गयी।
  • 1920 में कोल्हापुर के शाहू महाराज, अपने पारसी मित्र के सहयोग और कुछ निजी बचत के सहयोग से वो एक बार फिर से इंग्लैंड वापस जाने में सफ़ल हो पाए ।
  • 1921 में विज्ञान स्नातकोत्तर (एम॰एससी॰) प्राप्त की, जिसके लिए उन्होंने ‘प्रोवेन्शियल डीसेन्ट्रलाईज़ेशन ऑफ इम्पीरियल फायनेन्स इन ब्रिटिश इण्डिया’ खोज ग्रन्थ प्रस्तुत किया था।
  • 1922 में, उन्हें ग्रेज इन ने बैरिस्टर-एट-लॉज डिग्री प्रदान की और उन्हें ब्रिटिश बार में बैरिस्टर के रूप में प्रवेश मिल गया।
  • 1923 में, उन्होंने अर्थशास्त्र में डी॰एससी॰ (डॉक्टर ऑफ साईंस) उपाधि प्राप्त की। उनकी थीसिस “दी प्राब्लम आफ दि रुपी: इट्स ओरिजिन एंड इट्स सॉल्यूशन” (रुपये की समस्या: इसकी उत्पत्ति और इसका समाधान) पर थी। लंदन का अध्ययन पूर्ण कर भारत वापस लौटते हुये भीमराव आम्बेडकर तीन महीने जर्मनी में रुके, वहाँ पर उन्होंने अपना अर्थशास्त्र का अध्ययन, बॉन विश्वविद्यालय में जारी रखा। किंतु समय की कमी से वे विश्वविद्यालय में अधिक नहीं ठहर सकें।
  • उनकी तीसरी और चौथी डॉक्टरेट्स (एलएल॰डी॰, कोलंबिया विश्वविद्यालय, 1952 और डी॰लिट॰, उस्मानिया विश्वविद्यालय, 1953) सम्मानित उपाधियाँ थीं।
  • 3 अप्रैल 1952 – 6 दिसम्बर 1956 तक राज्य सभा के सदस्य, बॉम्बे राज्य के सदस्य रहे।
  • पद बहाल 15 अगस्त 1947 – सितंबर 1951 तक भारत के प्रथम क़ानून एवं न्याय मंत्री के रूप में कार्य किया।
  • 29 अगस्त 1947 – 24 जनवरी 1950 तक भारतीय संविधान सभा की मसौदा समिती के अध्यक्ष के रूप में कार्यरत रहे।
  • जुलाई 1942 – 1946 तक श्रम मंत्री, वायसराय की कार्य-परिषद के रूप में कार्य किया।

योगदान

  • पूना पैक्ट
  • छुआछूत के विरुद्ध संघर्ष

रचनाएँ

भीमराव आम्बेडकर प्रतिभाशाली और जुंझारू लेखक थे। आम्बेडकर को पढने में काफी रूची थी तथा वे लेखन में भी रूची रखते थे। इसके चलते उन्होंने मुंबई के अपने घर राजगृह में ही एक समृद्ध ग्रंथालय का निर्माण किया था, जिसमें उनकी 50 हजार से भी अधिक किताबें थी। अपने लेखन द्वारा उन्होंने दलितों व देश की समस्याओं पर प्रकाश डाला। उनके लिखे हुए महत्वपूर्ण ग्रंथो में, अनहिलेशन ऑफ कास्ट, द बुद्ध अँड हिज धम्म, कास्ट इन इंडिया, हू वेअर द शूद्राज?, रिडल्स इन हिंदुइझम आदि शामिल हैं। 32 किताबें और मोनोग्राफ 22 पुर्ण तथा 10 अधुरी किताबें है, 10 ज्ञापन, साक्ष्य और वक्तव्य, 10 अनुसंधान दस्तावेज, लेखों और पुस्तकों की समीक्षा एवं 10 प्रस्तावना और भविष्यवाणियां इतनी सारी उनकी अंग्रेजी भाषा की रचनाएँ हैं। उन्हें 11 भाषाओं का ज्ञान था, जिसमें मराठी (मातृभाषा), अंग्रेजी, हिन्दी, पालि, संस्कृत, गुजराती, जर्मन, फारसी, फ्रेंच, कन्नड और बंगाली ये भाषाएँ शामील है। आम्बेडकर ने अपने समकालिन सभी राजनेताओं की तुलना में सबसे अधिक लेखन किया हैं। उन्होंने अधिकांश लेखन अंग्रेजी में किया हैं। सामाजिक संघर्ष में हमेशा सक्रिय और व्यस्त होने के साथ ही, उनके द्वारा रचित अनेकों किताबें, निबंध, लेख एवं भाषणों का बड़ा संग्रह है। वे असामान्य प्रतिभा के धनी थे। उनके साहित्यिक रचनाओं को उनके विशिष्ट सामाजिक दृष्टिकोण, और विद्वता के लिए जाना जाता है, जिनमें उनकी दूरदृष्टि और अपने समय के आगे की सोच की झलक मिलती है। आम्बेडकर के ग्रंथ भारत सहित पुरे विश्व में बहुत पढे जाते है। भगवान बुद्ध और उनका धम्म यह उनका ग्रंथ ‘भारतीय बौद्धों का धर्मग्रंथ’ है तथा बौद्ध देशों में महत्वपुर्ण है। उनके डि.एस.सी. प्रबंध द प्रॉब्लम ऑफ द रूपी : इट्स ओरिजिन ॲन्ड इट्स सोल्युशन से भारत के केन्द्रिय बैंक यानी भारतीय रिज़र्व बैंक की स्थापना हुई है। भीमराव अंबेडकर की जीवनी – Bhimrao Ambedkar Biography Hindi

महाराष्ट्र सरकार के शिक्षा विभाग ने बाबासाहेब आंबेडकर के सम्पूर्ण साहित्य को कई खण्डों में प्रकाशित करने की योजना बनायी है और उसके लिए 15 मार्च 1976 को डॉ॰ बाबासाहेब आम्बेडकर मटेरियल पब्लिकेशन कमिटी कि स्थापना की। इसके अन्तर्गत 2019 तक ‘डॉ॰ बाबासाहेब आम्बेडकर: राइटिंग्स एण्ड स्पीचेज’ नाम से 22 खण्ड अंग्रेजी भाषा में प्रकाशित किये जा चुके हैं, और इनकी पृष्ठ संख्या 15 हजार से भी अधिक हैं। इस योजना के पहले खण्ड का प्रकाशन आम्बेडकर के जन्म दिवस 14 अप्रैल 1979 को हुआ। इन 22 वोल्युम्स में वोल्युम 14 दो भागों में, वोल्युम 17 तीन भागों में, वोल्युम 18 तीन भागों में व संदर्भ ग्रंथ 2 हैं, यानी कुल 29 किताबे प्रकाशित हैं।1987 से उनका मराठी अनुवाद करने का काम ने सुरू किया गया है, किंतु ये अभीतक पूरा नहीं हुआ। ‘डॉ॰ बाबासाहेब आम्बेडकर: राइटिंग्स एण्ड स्पीचेस’ के खण्डों के महत्व एवं लोकप्रियता को देखते हुए भारत सरकार के ‘सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय’ के डॉ॰ आम्बेडकर प्रतिष्ठान ने इस खण्डों के हिन्दी अनुवाद प्रकाशित करने की योजना बनायी और इस योजना के अन्तर्गत अभी तक “बाबा साहेब डा. अम्बेडकर: संपूर्ण वाङ्मय” नाम से 21 खण्ड हिन्दी भाषा में प्रकाशित किये जा चुके हैं। यह 21 हिन्दी खंड महज 10 अंग्रेजी खंडो का अनुवाद हैं। इन हिन्दी खण्डों के कई संस्करण प्रकाशित किये जा चुके हैं। आंबेडकर का संपूर्ण लेखन साहित्य महाराष्ट्र सरकार के पास हैं, जिसमें से उनका आधे से अधिक साहित्य अप्रकाशित है। उनका पूरा साहित्य अभीतक प्रकाशित नहीं किया गया हैं, उनके अप्रकाशित साहित्य से 45 से अधिक खंड बन सकते हैं।

पुस्तकें

  • एडमिनिस्ट्रेशन एंड फिनांसेज़ ऑफ़ द ईस्ट इंडिया कंपनी (एम॰ए॰ की थीसिस)
  • द एवोल्यूशन ऑफ़ प्रोविंशियल फिनांसेज़ इन ब्रिटिश इंडिया (पीएच॰डी॰ की थीसिस, 1917, 1925 में प्रकाशित)
  • दी प्राब्लम आफ दि रुपी : इट्स ओरिजिन एंड इट्स सॉल्यूशन (डीएस॰सी॰ की थीसिस, 1923 में प्रकाशित)
  • अनाइहिलेशन ऑफ कास्ट्स (जाति प्रथा का विनाश) (मई 1936)
  • विच वे टू इमैनसिपेशन (मई 1936)
  • फेडरेशन वर्सेज़ फ्रीडम (1936)
  • पाकिस्तान और द पर्टिशन ऑफ़ इण्डिया / थॉट्स ऑन पाकिस्तान (1940)
  • रानडे, गांधी एंड जिन्नाह (1943)
  • मिस्टर गांधी एण्ड दी एमेन्सीपेशन ऑफ़ दी अनटचेबल्स (सप्टेबर 1945)
  • वॉट कांग्रेस एंड गांधी हैव डन टू द अनटचेबल्स? (जून 1945)
  • कम्यूनल डेडलाक एण्ड अ वे टू साल्व इट (मई 1946)
  • हू वेर दी शूद्राज़ ? (अक्तुबर 1946)
  • भारतीय संविधान में परिवर्तन हेतु कैबिनेट मिशन के प्रस्तावों का, अनुसूचित जनजातियों (अछूतों) पर उनके असर के सन्दर्भ में दी गयी समालोचना (1946)
  • द कैबिनेट मिशन एंड द अंटचेबल्स (1946)
  • स्टेट्स एण्ड माइनोरीटीज (1947)
  • महाराष्ट्र एज ए लिंग्विस्टिक प्रोविन्स स्टेट (1948)
  • द अनटचेबल्स: हू वेर दे आर व्हाय दी बिकम अनटचेबल्स (अक्तुबर 1948)
  • थॉट्स ऑन लिंगुइस्टिक स्टेट्स: राज्य पुनर्गठन आयोग के प्रस्तावों की समालोचना (प्रकाशित 1955)
  • द बुद्धा एंड हिज धम्मा (भगवान बुद्ध और उनका धम्म) (1957)
  • रिडल्स इन हिन्दुइज्म
  • डिक्शनरी ऑफ पाली लॅग्वेज (पालि-इग्लिश)
  • द पालि ग्रामर (पालि व्याकरण)
  • वेटिंग फ़ॉर अ वीज़ा (आत्मकथा) (1935-1936)
  • अ पीपल ऐट बे
  • द अनटचेबल्स और द चिल्ड्रेन ऑफ़ इंडियाज़ गेटोज़
  • केन आय बी अ हिन्दू?
  • व्हॉट द ब्राह्मिण्स हैव डन टू द हिन्दुज
  • इसेज ऑफ भगवत गिता
  • इण्डिया एण्ड कम्यूनिज्म
  • रेवोलोटिओं एंड काउंटर-रेवोलुशन इन एनशियंट इंडिया
  • द बुद्धा एंड कार्ल मार्क्स (बुद्ध और कार्ल मार्क्स)
  • कोन्स्टिट्यूशन एंड कोस्टीट्यूशनलीज़म

ज्ञापन, साक्ष्य और वक्तव्य

  • On Franchise and Framing Constituencies (मताधिकार एवं निर्वाचन क्षेत्र बनाने के सन्दर्भ में) (1919)
  • Statement of Evidence to the Royal Commission of Indian Currency (भारतीय मुद्रा के दिया गया शाही आयुक्तालय को साक्ष्य का बयान) (1926)
  • Protection of the Interests of the Depressed Classes (शोषित/वंचित वर्गों के अधिकारों की रक्षा पर दिया गया बयान) (मई 29, 1928)
  • State of Education of the Depressed Classes in the Bombay Presidency (बम्बई प्रेसीडेंसी में पिछड़े वर्गों में शिक्षा के स्तर के सम्बन्ध में) (1928)
  • Constitution of the Government of Bombay Presidency (बम्बई प्रेसीडेंसी सरकार का संविधान) (मई 17, 1929)
  • A Scheme of Political Safeguards for the protection of the Depressed in the Future Constitution of a Self- governing India (भविष्य के स्वशासित भारतीय संविधान में पिछड़े वर्गों के लिए राजनैतिक प्रतिरक्षण की योजना) (1930)
  • The Claims of the Depressed Classes for Special Represention (पिछड़े वर्गों के विशेष प्रतिनिधित्व की मांग) (1931)
  • Franchise and Tests of Untouchability (छुआ-छूत की परख और विशेषाधिकार) (1932)
  • The Cripps Proposals on Constitutional Advancement (संवैधानिक प्रगति पर क्रिप्स प्रस्ताव) (जुलाई 18, 1942)
  • Grievances of the Schedule Castes (अनुसूचित जातियों की शिकायतें) (अक्तुबर 29, 1942)

अनुसन्धान दस्तावेज, लेख और पुस्तकों की समीक्षा

  • कास्ट्स इन इण्डिया : देयर जीनियस, मेकैनिज़म एंड डिवेलपमेंट (1918)
  • (मिस्टर रसेल एंड द रिकंस्ट्रक्शन ऑफ़ सोसाइटी) (1918)
  • स्माल होलिंग्स इन इंडिया एण्ड देयर रेमिडीज (1918)
  • करेंसी एंड एक्सचेंजेज़ (1925)। भीमराव अंबेडकर की जीवनी – Bhimrao Ambedkar Biography Hindi
  • द प्रेजेंट प्रॉब्लम ऑफ द इंडियन करेंसी (अप्रैल 1925)
  • Report of Taxation Enquiry Committee (कराधान जाँच समिति की रिपोर्ट) (1926)
  • Thoughts on the Repform of Legal Education in the Bombay Presidency (बम्बई प्रेसीडेंसी में न्यायिक शिक्षा में सुधार पर विचार) (1936)
  • राइजिंग एंड फाल ऑफ हिन्दू वुमन (1950)
  • Need for checks and Balances (नीड फॉर चेक्स एंड बैलेंसेज़ (नियंत्रणों और संतुलनों की आवश्यकता) (अप्रैल 23, 1953)
  • बुद्ध पूजा पाठ (मराठी में) (नवम्बर 1956)

प्रस्तावना और भविष्यवाणियां

  • Forward to Untouchable Workers of Bombay City (अनटचेबल वर्कर्स ऑफ़ बॉम्बे सिटी की प्रस्तावना) (1938)
  • Forward to commodity Exchange (पुस्तक: कमोडिटी एक्सचेंज की प्रस्तावना) (1947)
  • Preface to the Essence of Buddhism (पुस्तक, द एसेंस ऑफ़ बुद्धिजम की भूमिका) (1948)
  • Forward to Social Insurance and India (सोशल इन्शुरन्स एंड इंडिया की प्रस्तावना) (1948)
  • Preface to Rashtra Rakshake Vaidik Sadhan (पुस्तक, राष्ट्र रक्षा के वैदिक साधन की भूमिका) (1948)

पत्रकारिता

आम्बेडकर एक सफल पत्रकार एवं प्रभावी संपादक थे। उन्होंने पांच मराठी पत्रिकाओं का संपादन किया था, जिसमे मूकनायक (1920), जनता (1930), बहिष्कृत भारत (1927), समता (1928) एवं प्रबुद्ध भारत (1956) सम्मिलित हैं। इन पाँचो पत्रों में बाबासाहब ने देश के सामाजिक, राजनीतिक एवं आर्थिक मुद्दों पर अपने विचार व्यक्त करते थे। साहित्यकार व विचारक गंगाधर पानतावणे ने 1987 में भारत में पहली बार आम्बेडकर की पत्रकारितापर पी.एच.डी. के लिए शोध प्रबंध लिखा। उसमें पानतावने ने आंबेडकर के बारे में लिखा हैं की, “इस मुकनायक ने बहिष्कृत भारत के लोगों को प्रबुद्ध भारत में लाया। बाबासाहब एक महान पत्रकार थे।” 

सम्मान और पुरस्कार

  • 1990 में, आम्बेडकर को मरणोपरांत भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। इस पुरस्कार को सविता आम्बेडकर ने भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति रामास्वामी वेंकटरमण द्वारा आम्बेडकर के 99 वें जन्मदिवस, 14 अप्रैल 1990 को स्वीकार किया था। यह पुरस्कार समारोह राष्ट्रपति भवन के दरबार हॉल / अशोक हॉल में आयोजित किया गया था। भीमराव अंबेडकर की जीवनी – Bhimrao Ambedkar Biography Hindi
  • डॉक्टर ऑफ लॉज (एलएलडी), 1952: कोलंबिया विश्वविद्यालय, अमेरिका
  • डॉक्टर ऑफ लिटरेचर (डी.लिट.), 1953: उस्मानिया विश्वविद्यालय, हैदराबाद, भारत
  • 1920 के दशक में, लंदन में छात्र के रूप में रहने वाले आम्बेडकर जिस मकान में रहे, वह तिन मंजिला घर महाराष्ट्र सरकार द्वारा एक संग्रहालय में परिवर्तित कर उसे “अंतर्राष्ट्रीय आम्बेडकर मेमोरियल” में बदल दिया गया है। इसका लोकार्पण भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 14 नवम्बर 2015 को हुआ था ।
  • लखनऊ में आम्बेडकर उद्यान पार्क उनकी याद में समर्पित है। चैत्य में उनकी जीवनी दिखाते हुए स्मारक हैं
  • भारतीय डाक ने 1966, 1973, 1991, 2001 और 2013 में उनके जन्मदिन को समर्पित डाक टिकट जारी किए और 2009, 2015, 2016 और 2017 में उन्हें अन्य टिकटों पर चित्रित किया।
  • गुगल ने 14 अप्रैल 2015 को अपने होमपेज डुडल के माध्यम से आम्बेडकर के 124 वें जन्मदिन का जश्न मनाया था। यह डूडल भारत, अर्जेंटीना, चिली, आयरलैंड, पेरू, पोलैंड, स्वीडन और यूनाइटेड किंगडम में दिखाया गया था।
  • आंबेडकर की 125 वीं जयंती के उपलक्ष्य में ₹10 और ₹125 के सिक्के 2015 में प्रचलन के लिए जारी किए गए थे।
  • उनके जीवन पर आधारित कई टीवी धारावाहिक और फिल्मे भी बन चुकी है।

मृत्यु

1948 से, आम्बेडकर मधुमेह से पीड़ित थे। जून से अक्टूबर 1954 तक वो बहुत बीमार रहे इस दौरान वो कमजोर होती दृष्टि से ग्रस्त थे। राजनीतिक मुद्दों से परेशान आम्बेडकर का स्वास्थ्य बद से बदतर होता चला गया और 1955 के दौरान किये गये लगातार काम ने उन्हें तोड़ कर रख दिया। अपनी अंतिम पांडुलिपि भगवान बुद्ध और उनका धम्म को पूरा करने के तीन दिन के बाद 6 दिसम्बर 1956 को 65 वर्ष में आम्बेडकर का महापरिनिर्वाण नींद में दिल्ली में उनके घर मे हो गया।

स्मारक व संग्रहालय

आम्बेडकर के स्मरण में विश्व भर में कई वास्तु स्मारक एवं संग्रहालय बनाये गये हैं। कई स्मारक ऐतिहासिक रुप से उनके जुडे हैं तथा संग्रहालयों में उनकी विभिन्न चिजो का संग्रह हैं।

  • डॉ॰ बाबासाहेब आम्बेडकर वस्तु संग्रहालय – ‘शांतिवन’ — चिचोली गाँव (नागपुर ज़िला); इसमें आम्बेडकर के निजी उपयोग की वस्तुएँ रखी हैं।
  • डॉ॰ आम्बेडकर मणिमंडपम – चेन्नई भीमराव अंबेडकर की जीवनी – Bhimrao Ambedkar Biography Hindi
  • आम्बेडकर मेमोरियल पार्क – लखनऊ, उत्तर प्रदेश
  • भीम जन्मभूमि – डॉ॰ आम्बेडकर नगर (महू), मध्य प्रदेश; आम्बेडकर की जन्मस्थली
  • डॉ॰ आम्बेडकर राष्ट्रीय स्मारक – 26 अलीपुर रोड, नई दिल्ली
  • डॉ॰ बाबासाहेब आम्बेडकर सामाजिक न्याय भवन – महाराष्ट्र; राज्य के करीब हर जिले में बनी सरकारी वास्तु
  • डॉ॰ बी॰ आर॰ आम्बेडकर मेमोरियल पार्क (डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर स्मृति वनम) — अमरावती, आंध्र प्रदेश; यहां आम्बेडकर की 125 फीट ऊंची प्रतिमा बनने वाली हैं
  • डॉ॰ बाबासाहेब आम्बेडकर स्मारक (स्टैच्यू ऑफ इक्वैलिटी) – मुंबई, महाराष्ट्र; यहां आम्बेडकर की 450 फीट ऊंची प्रतिमा 2020 में बनकर तैयार हो जाएगी ।
  • चैत्यभूमि – मुंबई, महाराष्ट्र; आम्बेडकर की समाधि स्थली
  • भीमराव आम्बेडकर की प्रतिमा – कोयासन विश्वविद्यालय, जापान
  • डॉ॰ भीमराव रामजी आम्बेडकर स्मारक – लंदन, युनायटेड किंग्डम; लंदन में पढाई के दौरान (1921-22) में आम्बेडकर यहां रहे थे
  • डॉ॰ आम्बेडकर इंटरनेशनल सेंटर – दिल्ली
  • भारतरत्न डॉ॰ बाबासाहेब आम्बेडकर स्मारक – ऐरोली, मुंबई, महाराष्ट्र
  • राजगृह – दादर, मुंबई, महाराष्ट्र; आम्बेडकर का घर
  • डॉ॰ बाबासाहेब आम्बेडकर संग्रहालय और स्मारक – पुणे, महाराष्ट्र; राष्ट्रीय संग्रहालय
  • डॉ॰ बाबासाहेब आम्बेडकर राष्ट्रीय स्मारक – महाड, महाराष्ट्र; यहां आम्बेडकर मे महाड़ सत्याग्रह किया था
  • भारत रत्न डॉ॰ बाबासाहेब आम्बेडकर मुक्तिभूमि स्मारक – येवला, नासिक जिला, महाराष्ट्र; यहां आम्बेडकर ने धर्म परिवर्तन की घोषणा की थी
  • दीक्षाभूमि — नागपुर, महाराष्ट्र; यहां आम्बेडकर ने बौद्ध धर्म कबूल किया था