Biography Hindi

दादा भाई नौरोजी की जीवनी – Dadabhai Naoroji Biography Hindi

दादा भाई नौरोजी (English – Dadabhai Naoroji) भारत के प्रसिद्ध दिग्गज राजनेता, उद्योगपति, शिक्षाविद और विचारक थे। उन्हे ‘भारतीय राजनीति का पितामह’ कहा जाता है।

नौरोजी ने ‘पावर्टी एण्ड अनब्रिटिश रूल इन इण्डिया’ पुस्तक लिखी, जो अपने समय की महती कृति थी। 1886 व 1906 ई. में वह ‘इंडियन नेशनल कांग्रेस’ के अध्यक्ष बनाए गए।

दादा भाई नौरोजी की जीवनी – Dadabhai Naoroji Biography Hindi

Dadabhai Naoroji Biography Hindi
Dadabhai Naoroji Biography Hindi

संक्षिप्त विवरण

नाम दादाभाई नौरोजी
पूरा नाम दादाभाई नौरोजी
जन्म4 सितंबर 1825
जन्म स्थानमुम्बई, महाराष्ट्र
पिता का नाम
माता का नाम
राष्ट्रीयता भारतीय
धर्म
जाति

जन्म

दादाभाई नौरोजी का जन्म 4 सितंबर, 1825 को मुम्बई के एक ग़रीब पारसी परिवार में हुआ। जब दादाभाई 4 वर्ष के थे, तब उनके पिता का देहांत हो गया। जिसके बाद उनकी माता ने उनका पालन पोषण किया।

शिक्षा

उच्च शिक्षा प्राप्त करके दादाभाई लंदन के यूनिवर्सिटी कॉलेज में पढ़ाने लगे थे। लंदन में उनके घर पर वहां पढ़ने वाले भारतीय छात्र आते-जाते रहते थे। उनमें गांधी जी भी एक थे।

करियर  और राजनीतिक जीवन

वे मात्र 25 वर्ष की उम्र में एलफिनस्टोन इंस्टीट्यूट में लीडिंग प्रोफेसर के तौर पर नियुक्त होने वाले पहले भारतीय बने। राजनीति में नौरोजी वर्ष 1892 में हुए ब्रिटेन के आम चुनावों में ‘लिबरल पार्टी’ के टिकट पर ‘फिन्सबरी सेंट्रल’ से जीतकर भारतीय मूल के पहले ‘ब्रितानी सांसद’ बने थे।

नौरोजी ने भारत में कांग्रेस की राजनीति का आधार तैयार किया था। उन्होंने कांग्रेस के पूर्ववर्ती संगठन ‘ईस्ट इंडिया एसोसिएशन’ के गठन में मदद की थी।

इसके बाद में वर्ष 1886 में वह कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए। उस वक्त उन्होंने कांग्रेस की दिशा तय करने में अहम भूमिका निभाई। नौरोजी गोपाल कृष्ण गोखले और महात्मा गांधी के सलाहकार भी थे।

उन्होंने वर्ष 1855 तक बम्बई में गणित और दर्शन के प्रोफेसर के रूप में काम किया। बाद में वह ‘कामा एण्ड कम्पनी’ में साझेदार बनने के लिये लंदन गए। वर्ष 1859 में उन्होंने ‘नौरोजी एण्ड कम्पनी’ के नाम से कपास का व्यापार शुरू किया।

कांग्रेस के गठन से पहले वह सर सुरेन्द्रनाथ बनर्जी द्वारा स्थापित ‘इंडियन नेशनल एसोसिएशन’ के सदस्य भी रहे। यह संगठन बाद में कांग्रेस में विलीन हो गया।

उन्होंने 1906 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के ‘कलकत्ता अधिवेशन’ की अध्यक्षता की। उनकी महान् कृति पॉवर्टी ऐंड अन-ब्रिटिश रूल इन इंडिया ‘राष्ट्रीय आंदोलन की बाइबिल’ कही जाती है। वे महात्मा गांधी के प्रेरणा स्त्रोत थे।

वे पहले भारतीय थे जिन्हें एलफिंस्टन कॉलेज में बतौर प्रोफेसर के रूप में नियुक्ति मिली। बाद में यूनिवर्सिटी कॉलेज, लंदन में उन्होंने प्रोफेसर के रूप में अपनी सेवाए दीं।

उन्होंने शिक्षा के विकास, सामाजिक उत्थान और परोपकार के लिए बहुत-सी संस्थाओं को प्रोत्साहित करने में योगदान दिया, और वे प्रसिद्ध साप्ताहिक ‘रास्ट गोफ्तर’ के संपादक भी रहे। वे अन्य कई जर्नल से भी जुडे़ रहे।

वे सामाजिक कार्यों में भी रुचि लेते थे। उनका कहना था कि, ‘हम समाज की सहायता से आगे बढ़ते हैं, इसीलिए हमें भी पूरे मन से समाज की सेवा करनी चाहिए।’

योगदान

दादाभाई नौरोजी ने ‘ज्ञान प्रसारक मण्डली’ नामक एक महिला हाई स्कूल एवं 1852 में ‘बम्बई एसोसिएशन’ की स्थापना की।

लन्दन में रहते हुए दादाभाई ने 1866 ई. मे ‘लन्दन इण्डियन एसोसिएशन’ एवं ‘ईस्ट इंडिया एसोसिएशन’ की स्थापना की। वे राजनीतिक विचारों से काफ़ी उदार थे। ब्रिटिश शासन को वे भारतीयों के लिए दैवी वरदान मानते थे।

1906 ई. में उनकी अध्यक्षता में प्रथम बार कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में स्वराज्य की मांग की गयी।

दादाभाई ने कहा “हम दया की भीख नहीं मांगते। हम केवल न्याय चाहते हैं। ब्रिटिश नागरिक के समान अधिकारों का ज़िक्र नहीं करते, हम स्वशासन चाहते है।” अपने अध्यक्षीय भाषण में उन्होंने भारतीय जनता के तीन मौलिक अधिकारों का वर्णन किया है।

ये अधिकार थे-

  • लोक सेवाओं में भारतीय जनता की अधिक नियुक्ति।
  • विधानसभाओं में भारतीयों का अधिक प्रतिनिधित्व।
  • भारत एवं इंग्लैण्ड में उचित आर्थिक सबन्ध की स्थापना।

मृत्यु

Dadabhai Naoroji की मृत्यु 30 जून 1917 को मुम्बई, महाराष्ट्र में हुई।

Sonu Siwach

नमस्कार दोस्तों, मैं Sonu Siwach, Jivani Hindi की Biography और History Writer हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Graduate हूँ. मुझे History content में बहुत दिलचस्पी है और सभी पुराने content जो Biography और History से जुड़े हो मैं आपके साथ शेयर करती रहूंगी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close