Biography Hindi

दीपा मलिक की जीवनी – Deepa Malik Biography Hindi

दीपा मलिक पैरालिंपिक खेलों में मेडल जीतने वाली पहली भारतीय महिला हैं तथा शॉटपुट एवं जेवलिन थ्रो के साथ-साथ तैराकी एवं मोटर रेसलिंग से जुड़ी एक विकलांग भारतीय खिलाड़ी हैं। उन्होने भारत की राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में 33 स्वर्ण तथा 4 रजत पदक प्राप्त किये हैं। वे भारत की एक ऐसी पहली महिला है जिसे हिमालय कार रैली में आमंत्रित किया गया। 2008 तथा 2009 में उन्होने यमुना नदी में तैराकी तथा स्पेशल बाइक सवारी में भाग लेकर दो बार लिम्का बूक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज कराया। इसके साथ ही 2007 में उन्होने ताइवान तथा 2008 में बर्लिन में जवेलिन थ्रो तथा तैराकी में भाग लेकर रजत एवं कांस्य पदक प्राप्त किया था। कोमनवेल्थ गेम्स की टीम में भी वे चयनित की गई। पैरालंपिक खेलों में उनकी उल्लेखनीय उपलब्धियों के कारण उन्हे भारत सरकार ने अर्जुन पुरस्कार और राजीव गांधी खेल रत्न प्रदान किया। तो आइए आज इस आर्टिकल में हम आपको दीपा मलिक की जीवनी – Deepa Malik Biography Hindi के बारे में बताएगे।

दीपा मलिक की जीवनी – Deepa Malik Biography Hindi

दीपा मलिक की जीवनी - Deepa Malik Biography Hindi

जन्म

दीपा मलिक का जन्म 30 सितम्बर 1970 को भैंसवाल, सोनीपत, हरियाणा में हुआ था। उनके पिता का नाम बाल कृष्ण नागपाल वे एक भारतीय सेना में है। उनकी माता का नाम वीना नागपाल है। उनका एक भाई है जिसका नाम विक्रम नागपाल है। 27 जून 1989 को उनका विवाह भारतीय सेना अधिकारी बिक्रम सिंह मलिक के साथ हुआ। उनके दो बेटियाँ है जिनका नाम अंबिका मलिक, देविका मलिक है। 1999 में जब उन्हें पता चला कि उनके रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर है और जिसकी वजह से वह चल नहीं सकती। रीढ़ की हड्डी का ट्यूमर ठीक करने के लिए उनकी 31 सर्जरी करनी पड़ी।

शिक्षा

दीपा मलिक ने केन्द्रीय विद्यालय और फोर्ट विलियम, कलकत्ता से शिक्षा प्राप्त की इसके बाद उन्होने उच्च शिक्षा सोफिया कॉलेज, अजमेर, भारत से प्राप्त की। दीपा खेल में ही आगे नहीं हैं, वह सामाजिक कार्य करने के साथ-साथ लेखन भी करती हैं। गंभीर बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए कैंपेन भी चलाती हैं और सामाजिक संस्थाओं के कार्यक्रमों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेती हैं। दीपा को लिखने का शौक है।

हाइट और वजन

दीपा मलिक की हाइट 5 फीट 6 इंच है।
उनका वजन लगभग  60 कि० ग्रा० है।

Read This -> मेरी लीला राव की जीवनी – Mary Leela Rao Biography Hindi

करियर

दीपा ने 2009 में शॉट पुट में अपना पहला पदक (कांस्य) जीता था। इसके अगले ही साल ऐसा कमाल किया कि इंग्लैंड में शॉटपुट, डिस्कस थ्रो और जेवलिन तीनों में गोल्ड मेडल जीते। उस साल दीपा के सितारे बुलंदी पर रहे और उसने चाइना में पैरा एशियन गेम्स में कांस्य पदक जीता। वहां कांस्य जीतने वाली दीपा पहली भारतीय महिला बनीं।

दीपा ने 2011 में वर्ल्ड एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में रजत पदक जीता तो उसी साल शरजहां में वर्ल्ड गेम्स में दो कांस्य पदक जीते। वर्ष 2012 में मलेशिया ओपन एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में जेवलिन व डिस्कस थ्रो में दो स्वर्ण पदक जीते। 2014 में चाइना ओपन एथलेटिक्स चैंपियनशिप बीजिंग में शॉटपुट में स्वर्ण पदक जीता।

उसी साल इंच्योन एशियन पैरा गेम्स में रजत पदक जीकर रिकॉर्ड बनाया। यह साल भी दीपा मलिक के लिए बेहतर रहा है और पैरालंपिक में रजत से पहले ही दुबई में ओसिएनिया एशियन चैंपियनशिप में जेवलिन थ्रो में स्वर्ण व शॉटपुट में कांस्य पदक जीता। हाल ही में दीपा मलिक भाजपा में शामिल हुई थीं।

रिकॉर्ड्स

  • अंतर्राष्ट्रीय खेलों में 18 पदक।
  • 2007 में उन्होने ताइवान तथा 2008 में बर्लिन में जवेलिन थ्रो तथा तैराकी में भाग लेकर रजत एवं कांस्य पदक प्राप्त किया था।
  • 2008 तथा 2009 में उन्होने यमुना नदी में तैराकी तथा स्पेशल बाइक सवारी में भाग लेकर दो बार लिम्का बूक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज कराया।
  • साल 2016 के पैरालम्पिक खेलों में रजत पदक। पहली भारतीय महिला जिन्होंने पैरालम्पिक खेलों में मेडल (शॉट पुट) जीता।
  • साल 2010 को चीन में हुए पैरा एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता।
  • साल 2011 में, आईपीसी विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में रजत पदक जीता।
  • पैरालंपिक खेलों में उनकी उल्लेखनीय उपलब्धियों के कारण उन्हे भारत सरकार ने अर्जुन पुरस्कार और राजीव गांधी खेल रत्न प्रदान किया।

Read This -> बुला चौधरी की जीवनी – Bula Choudhury Biography Hindi

पुरस्कार

  • वर्ष 2012 में, भारत सरकार ने उन्हें अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया।
  • 12 सितंबर 2016 को, उन्होंने रियो पैरालिंपिक में रजत पदक जीता और पैरालंपिक में पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनी।
  • वर्ष 2017 में, उन्हें प्रतिष्ठित पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • Rajiv Gandhi Khel Ratna award for Para-Atheletics – 2019

Sonu Siwach

नमस्कार दोस्तों, मैं Sonu Siwach, Jivani Hindi की Biography और History Writer हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Graduate हूँ. मुझे History content में बहुत दिलचस्पी है और सभी पुराने content जो Biography और History से जुड़े हो मैं आपके साथ शेयर करती रहूंगी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close