Biography Hindi

केदारनाथ अग्रवाल की जीवनी – Kedarnath Agarwal Biography Hindi

केदारनाथ अग्रवाल – English – Kedarnath Agarwal प्रगतिशील काव्य-धारा के एक प्रमुख कवि एवं लेखक थे।

उनका पहला काव्य-संग्रह ‘युग की गंगा’ देश की आज़ादी के पहले मार्च, 1947 में प्रकाशित हुआ।

उन्हे साहित्य अकादमी पुरस्कार जैसे कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया।

केदारनाथ अग्रवाल की जीवनी – Kedarnath Agarwal Biography Hindi

Kedarnath Agarwal Biography Hindi
Kedarnath Agarwal Biography Hindi

 

संक्षिप्त विवरण

नामकेदारनाथ
पूरा नामकेदारनाथ अग्रवाल
जन्म1 अप्रैल 1911
जन्म स्थानकमासिन, बाँदा नगर, उत्तर प्रदेश
पिता का नाम हनुमान प्रसाद अग्रवाल
माता का नामघसिट्टो देवी
राष्ट्रीयता भारतीय
धर्म हिन्दू
जाति अग्रवाल

जन्म

Kedarnath Agarwal का जन्म 1 अप्रैल 1911 को उत्तर प्रदेश के बाँदा नगर के कमासिन गाँव में एक मध्यवर्गीय परिवार में हुआ था।

उनके पिता का नाम हनुमान प्रसाद अग्रवाल तथा उनकी माता का नाम घसिट्टो देवी थी।

उनके पिताजी स्वयं कवि थे और उनका एक काव्य संकलन ‘मधुरिम’ के नाम से प्रकाशित भी हुआ था।

शिक्षा

केदार जी का आरंभिक जीवन कमासिन के ग्रामीण माहौल में बीता और शिक्षा दीक्षा की शुरूआत भी वहीं हुई।

तत्पश्चात् अपने चाचा मुकुंदलाल अग्रवाल के संरक्षण में उन्होंने शिक्षा पाई। उन्होने रायबरेली, कटनी, जबलपुर, इलाहाबाद में उनकी पढ़ाई हुई।

इलाहाबाद में बी.ए. की उपाधि हासिल करने के बाद क़ानूनी शिक्षा उन्होंने कानपुर में हासिल की।

इसके बाद वे बाँदा पहुँचकर वहीं वकालत करने लगे थे।

करियर

Kedarnath Agarwal ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय  में अध्ययन के दौरान ही कविताएँ लिखने की शुरुआत की। उनकी लेखनी में प्रयाग की प्रेरणा का बड़ा योगदान रहा है।

प्रयाग के साहित्यिक परिवेश से उनके गहरे रिश्ते का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि उनकी सभी मुख्य कृतियाँ इलाहाबाद के परिमल प्रकाशन से ही प्रकाशित हुई। उनकी प्रकाशित ढ़ाई दर्जन कृतियों में 23 कविता संग्रह, एक अनूदित कविताओं का संकलन, तीन निबंध संग्रह, एक उपन्यास, एक यात्रावृत्तांत, एक साक्षात्कार संकलन और एक पत्र-संकलन भी शामिल हैं।

प्रकाशित साहित्य

  • काव्य संकलन युग की गंगा – 1947
  • नींद के बादल – 1947
  • लोक और आलोक – 1957
  • फूल नहीं रंग बोलते हैं – 1965
  • आग का आइना – 1970
  • देश की कविताएं – 1970
  • गुल मेंहदी – 1978
  • आधुनिक कवि-16 – 1978
  • पंख और पतवार – 1979
  • हे मेरी तुम – 1981
  • मार प्यार की थापें – 1981
  • बम्बई का रक्त स्नान – 1981
  • कहे केदार खरी खरी – 1983
  • अपूर्वा – 1984
  • जमुन जल तुम – 1984
  • बोले बोल अबोल – 1985
  • जो शिलाएं तोड़ते हैं – 1986
  • आत्मगंध – 1988
  • अनहारी हरियाली – 1990
  • खुली आँखें खुले डैने – 1993
  • पुष्पदीप – 1994
  • वसंत में प्रसन्न हुई पृथ्वी – 1996
  • कुहक कोपल खड़े पेड़ की देह – 1997

कविता संग्रह

  • युग की गंगा
  • फूल नहीं, रंग बोलते हैं
  • गुलमेंहदी
  • हे मेरी तुम!
  • बोलेबोल अबोल
  • जमुन जल तुम
  • कहें केदार खरी खरी
  • मार प्यार की थापें आदि।

यात्रा संस्मरण

  • बस्ती खिले गुलाबों की
  • उपन्यास पतिया
  • बैल बाजी मार ले गये

निबंध संग्रह

  • समय समय पर – 1970
  • विचार बोध – 1980
  • विवेक विवेचन – 1980

पुरस्कार

  • उन्हे सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • Kedarnath Agarwal को तुलसी पुरस्कार से नवाजा गया।
  • उन्हे मैथिलीशरण गुप्त पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था।
  • साहित्य अकादमी पुरस्कार
  • हिंदी संस्थान पुरस्कार

मृत्यु

Kedarnath Agarwal की 22 जून 2002 को मृत्यु हो गई।

Sonu Siwach

नमस्कार दोस्तों, मैं Sonu Siwach, Jivani Hindi की Biography और History Writer हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Graduate हूँ. मुझे History content में बहुत दिलचस्पी है और सभी पुराने content जो Biography और History से जुड़े हो मैं आपके साथ शेयर करती रहूंगी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close