https://www.googletagmanager.com/gtag/js?id=UA-86233354-15
Biography Hindi

ललित मोहन राय की जीवनी – Lalit Mohan Roy Biography Hindi

ललित मोहन राय चित्रकारी के बहुत ही अच्छे कलाकार हैं। दुमका निवासी श्री राय एक अंतरराष्ट्रीय ख्याति के विशिष्ट चित्रकार है। उनका मुख्य चिंत्राकन आदिवासी जीवन पर आधारित है और संथाल जनजातियों की मात्री भूमि सुंदर परिदृश्य, तेजस्वी घाटियों, नदियों और शानदार पहाड़ों से भरी हुई है। अपने प्राकृतिक विशेषता के अलावा इस भूमि ने कई दिग्गज कलाकारों का भी निर्माण किया है। इन कलाकारों ने दुनिया के बाकी हिस्सों में अपनी भव्यता व्यक्त की है। ललित मोहन राय इन में से एक है वह संथाल परगना के एक स्वयंभू और खुद से ही सीखे हुए कलाकार है। तो आइए आज इस आर्टिकल में हम आपको ललित मोहन राय की जीवनी – Lalit Mohan Roy Biography Hindi के बारे में बताएंगे।

ललित मोहन राय की जीवनी – Lalit Mohan Roy Biography Hindi

ललित मोहन राय की जीवनी

जन्म

ललित मोहन राय का जन्म 1943 में हुआ था.

शिक्षा

ललित मोहन राय ने National High School, Dumka और S P College, Dumka से अपनी शिक्षा प्राप्त की थी.

कार्य क्षेत्र

संथाल परगना में ललित मोहन राय अपने खुद से ही सीखे हुए कलाकार हैं। उन्होंने अपने चित्रों में आदिवासी जीवन, भूमि की सुंदरता और आघात के बारे में बताया है। श्री राय का कहना है कि पेंटिंग मेरे लिए कभी भी कोई पेशा नहीं है। यह हमेशा एक अवकाश था उन्होंने सांख्यिकी विभाग, बिहार सरकार(झारखंड) के लिए काम था। उन्होंने अपने नौकरी के दौरान कई स्थानों का भ्रमण करना था, हर दरवाजे पर रूकना था, लोगों को इकट्ठा करना और सरकार के लिए रिपोर्ट बनाना था। उनकी नौकरी ने उन्हें क्षेत्र संस्कृति और वहां रहने वाले लोगों कि जानकारी पता लगाने के लिए बनाया था। इस नौकरी के दौरान उन्होने सब कुछ अपने दिमाग से ही किया और खाली समय में अपने संग्रह और अनुभवों को कैनवास पर उतारा।

उन्होंने अपने चित्रों में स्थानीय जनजातीय क्षेत्र के परिदृश्य का जीवन दर्शाया है। उन्हें कभी औपचारिक प्रशिक्षण नहीं मिला। ललित मोहन राय ने सब कुछ प्रकृति से ही सीखा था। इसी कारण उनकी चित्रकला संथाल परगना की सुंदरता को चित्रित करता है। यह उनकी जीवनशैली का वर्णन करता है, जहां पर वे रहते थे, कैसे वे सामाजिक अवसरों और अपने क्षेत्र की प्राकृतिक सुंदरता का जश्न मनाते थे। उनकी मूर्तियां और स्टेचू भी उसी हस्ताक्षर से चलते हैं।

रचना

श्री राय केवल एक असाधारण चित्रकार ही नहीं एक सच्चे कलाकार भी है। उनकी रचनाओं में कागज के काम, पीओपी के शिल्प(प्लास्टर ऑफ पेरिस), लकड़ी की मूर्तियां, मिट्टी की मूर्ति आदि शामिल है। जिस तरह से उन्होंने एक बेकार सामग्री को कला में बदल दिया गया उनकी कल्पना को प्रदर्शित करता है।

संग्रह क्षेत्र

ललित मोहन राय की कला के संग्रह दुमका संग्रहालय, संथाल नृत्य कला केंद्र, भागलपुर संग्रहालय, पटना संग्रहालय में देखे जा सकते हैं। उनके कई प्रशंसक दिल्ली, कनाडा, अमेरिका, जापान, इंग्लैंड आदि जैसे दुनिया भर में भी अपने व्यक्तित्व स्तर पर उनके काम का संग्रह कर चुके हैं।

प्रदर्शनी

ललित राय की पहली प्रदर्शनी पेंटिंग प्रदर्शनी 1960 में दुमका में आयोजित की गई थी। दुमका के बाद में 1966, 1968 1989 और 2006 और 2013 जैसे कई प्रदर्शनों को देखा। उनके मुंबई 1966 प्रदर्शनी या हुई। भागलपुर में 1978 में, नई दिल्ली में 1986 रायगंज और देवघर 2004 में। रांची 2006 में और मुर्शिदाबाद में 2015 में इनकी प्रदर्शनी पेंटिंग प्रदर्शनी हुई।

श्री राय ने कई सगोंष्ठियों और समारोह में भाग लिया और साथ ही कई संगठनों द्वारा उनके कार्यों और समारोह में उन्हें आमंत्रित किया गया। उन्होंने 1978-79 तक के दौरान भागलपुर संग्रहालय सप्ताह की प्रदर्शनी और संगोष्ठी में भाग लिया। इसके बाद में उन्होंने 1986 में पटना के टाइम्स ऑफ इंडिया के वार्षिक उत्सव समारोह में भाग लिया। 1986 में उन्होंने दुर्गापुर में बंगाल कल्चरल फेस्टिवल और नई दिल्ली में नेशनल कल्चरल फेस्टिवल (अपना उत्सव), लखनऊ में लोक उत्सव में भी उन्होंने भाग लिया। 2006 में उन्होंने पूर्वी आंचलिक सांस्कृतिक केंद्र कोलकाता द्वारा आयोजित कला संगम में भी भाग लिया।

पुरस्कार

ललित मोहन राय कहते हैं कि पेंटिंग कभी उनके लिए पेशा नहीं था लेकिन लोगों और कला प्रेमियों ने उनकी प्रतिभा और अभूतपूर्व कार्यों से जल्दी ही पहचान लिया। वे इसका श्रेय अपने दोस्तों और अपने साथ काम करने वालों को देते हैं। जिन्होंने उनका समर्थन किया और उन्हें प्रोत्साहित किया। उनमें से कुछ श्री हरि उप्पल (पदम श्री और भारतीय नृत्य कला मंदिर पटना के संस्थापक) और बिहार के प्रसिद्ध चित्रकार श्री उपेंद्र महारथी है। ललित राय का मानना है कि ऐसे महान कलाकारों की उपस्थिति ने उन्हें एक कलाकार के रूप में खेती करने में मदद की है।

  • जिला प्रशासन पुरस्कार 1961
  • मननीय मुख्यमंत्री बिहार 1970 द्वारा “कलाश्री” पुरस्कार
  • वीएसएस के संस्थान द्वारा 2002 में “प्राइड ऑफ झारखंड” पुरस्कार
  • बिहार और झारखंड की एक चयनित व्यक्तित्व 2001-02 में
  • रस्त्रीय शिखर सम्मान पुरस्कार
  • ललित मोहन राय को संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति श्री जसवंत सिन्हा( भारत के पूर्व विदेश मंत्री) और मुंबई से श्री जे.पी. सिंघल और श्री राम कुमार जैसे प्रतिष्ठित कलाकारों ने भी उनकी सराहना की है।

स्कूल ऑफ आर्ट का निर्माण

स्कूल ऑफ आर्ट ने दुमका के युवा लड़कों और लड़कियों को पेंटिंग, ड्रॉइंग, फोटोग्राफी, स्कल्पचर आदि की ट्रेनिंग दी है। स्कूल की शुरुआत ललित मोहन राय ने की थी, और अब वर्तमान में उनके बेटे सोमनाथ राय इस स्कूल देखरेख कर रहे है। श्री राय का कहना है कि उन्होंने कभी भी कला विद्यालय शुरू करने का नहीं सोचा था। यह 90 के दशक के मध्य में शुरू हुआ। जब कुछ स्थानीय लड़कियों ने उनसे पेंटिंग और ड्राइंग सीखने के लिए गुजारिश की। फिर उनके स्कूल को अपना नाम और साइन बोर्ड मिला। 1988 मेंइस स्कूल का आधिकारिक रूप से इसका गठन किया गया। क्षेत्र के बंगाली समुदाय ने उनकी पहल का स्वागत किया और अपना समर्थन दिया। हम बंगालियों की हर कला से प्रेम करते हैं, और उन्हें प्रोत्साहित करते हैं। चाहे वह पेंटिंग, संगीत , अभिनय और लेखन हो। उन्होंने एक बंगाली भाई बहन की जोड़ी को शानदार छात्रों के रूप में याद करने का उल्लेख किया है यह भी मानते हैं कि गैर- निवासी बंगाली अक्सर बंगालियों के मुकाबले बंगाली संस्कृति से अधिक प्रभावित होते हैं।

मलूटी अध्याय

विरासत के समृद्ध झारखंड, पश्चिम बंगाल की सीमा में स्थित मंदिरों का एक गांव मालूटी और 26 जनवरी 2015 को 66 गणतंत्र दिवस परेड के दौरान झारखंड झांकी आने के बाद एक दिलचस्प अतीत राष्ट्रीय कैनवस में आया। मलूटी नानक राज्य की राजधानी थी. (यह 15वीं शताब्दी में कर मुक्त राज्य था) बाज बसंत और उनके वंश द्वारा शासित नानककर राजा भगवान शिव के उपासक थे। इसलिए उन्होंने महलों की बजाए 108 मंदिरों का निर्माण किया, लेकिन उनके उत्तराधिकारी उन सभी को बनाए नहीं रख सके और आज वे केवल 72 ही रह चुके हैं। कम लोग ही जानते है कि श्री ललित मोहन ने लाइमलाइट में आने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। श्री गोपालदास मुखर्जी ने मलूटी पर एक पुस्तक भी लिखी, जिसमे ललित मोहन राय के चित्रो और तस्वीरों को दर्शाया गया है।

निधन

ललित मोहन राय का निधन 14 जुलाई 2018 को दुमका में हुआ था.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close