Biography Hindi

लीला सेठ की जीवनी – Leila Seth Biography Hindi

लीला सेठ भारत में उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश बनने वाली पहली महिला थीं। दिल्ली उच्च न्यायालय की पहली महिला न्यायाधीश बनने का श्रेय भी उन्ही को ही जाता है। वे देश की पहली ऐसी महिला भी थीं, जिन्होंने लंदन बार परीक्षा में शीर्ष स्थान प्राप्त किया। महिलाओं के साथ भेद-भाव के मामले, संयुक्त परिवार में लड़की को पिता की सम्पति का बराबर की हिस्सेदारी बनाने और पुलिस हिरासत में हुई राजन पिलाई की मौत की जांच जैसे मामलो में उनकी महतवपूर्ण भूमिका रही है। तो आइए आज इस आर्टिकल में हम आपको लीला सेठ की जीवनी – Leila Seth Biography Hindi के बारे मे बताएगे।

लीला सेठ की जीवनी – Leila Seth Biography Hindi

लीला सेठ की जीवनी

 

जन्म

लीला सेठ का जन्म लखनऊ में अक्टूबर 1930 में हुआ। बचपन में पिता की मृत्यु के बाद बेघर होकर विधवा माँ के सहारे पली-बढ़ी और मुश्किलों का सामना करती हुई उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश के पद तक पहुचने का सफ़र एक महिला के लिये कितना संघर्ष-मय हो सकता है, इसका अनुमान लगाया जा सकता है। भारत की पहली महिला मुख्य न्यायाधीश रही लीला ने अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त लेखक विक्रम सेठ की माँ हैं। भारत के 15 वे विधि आयोग की सदस्य बनने और कुछ चर्चित न्यायिक मामलो में विशेष योगदान के कारण लीला सेठ का नाम विख्यात है।

शिक्षा

लन्दन में 1958 में  कानून की परीक्षा में उन्होने टॉप किया। न्यायमूर्ति लीला की शादी पारिवारिक माध्यम से बाटा-कंपनी में सर्विस करने वाले प्रेम के साथ हुई। उस समय लीला सेठ ने स्नातक भी नहीं थी, बाद में प्रेम को इंग्लैंड में नौकरी के लिये जाना पड़ा तो वह साथ में चली गई और वही से स्नातक किया। कुछ समय बाद उनके पति को भारत लौटना पड़ा, तो लीला ने यहाँ आ कर वकालत करने की ठानी, उस समय जब नौकरियों में बहुत कम महिलाएँ होती थी। कोलकाता में उन्होने वकालत की शुरुआत की। लेकिन बाद में पटना में आकर उन्होने वकालत शुरू की। 1959 में उन्होने बार में दाखिला लिया और पटना के बाद दिल्ली में वकालत की। उन्होने वकालत के दौरान बड़ी तादात में इनकम टैक्स, सेल्स टैक्स, एक्सिस ड्यूटी और कस्टम संबंधी मामलो के अलावा सिविल कंपनी और वैवाहिक मुकदमे भी किये।

करियर

  • 1978 में वे दिल्ली उच्च न्यायालय की पहली महिला न्यायाधीश बनी और इसके बाद में 1991 में हिमाचल प्रदेश की पहली महिला मुख्य न्यायाधीश  के रूप में नियुक्त की गई। महिलाओं के साथ हो रहे भेद-भाव के मामले, संयुक्त परिवार में लड़की को पिता की सम्पति का बराबर की हिस्सेदारी बनाने और पुलिस हिरासत में हुई राजन पिलाई की मौत की जांच जैसे मामलो में उनकी महतवपूर्ण भूमिका रही है।
  • 1995 में उन्होने पुलिस हिरासत में हुई राजन पिलाई की मौत की जांच के लिये बनाई एक सदस्यीय आयोग की ज़िम्मेदारी संभाली।
  • 1998 से 2000 तक वे भारतीय विधि आयोग की सदस्य रही और हिन्दू उतराधिकार कानून में संशोधन कराया जिसके तहत संयुक्त परिवार में बेटियों को बराबर का अधिकार प्रदान किया गया। महत्वपूर्ण न्यायिक दायित्व के साथ -साथ उन्होने घर परिवार की महत्वपूर्ण जिमेदारी भी सफलतापूर्वक निभाई।
  • 1992 में लीला सेठ ने हिमाचल प्रदेश की मुख्य न्यायाधीश के पद से सेवानिवृत हुई। करियर वुमन के रूप में लीला सेठ ने पुरुष प्रधान माने जाने वाली न्यायप्रणाली में अपनी एक अलग ही पहचान बनाई और कई पुरानी मान्यताओं को भी तोड़ा।
  • साथ ही उन्होंने परिवार और करियर के बीच काफी अच्छा संतुलन बनाए रखा।

योगदान

लीला सेठ ने कई संस्थाओं, बोर्डों, कमिशनों में अपना महत्त्व पूर्ण योगदान दिया हैं भारतीय अंतर्राष्ट्रीय सेंटर, द नेशनल नॉलेज सेंटर, द पॉपुलर फ़ाउण्डेशन ऑफ़ इण्डिया, लेडी श्रीराम कॉलेज, मॉडर्न स्कूल बसंत विहार, मेयो कॉलेज से भी जुड़ी हुई थी । लीला जी को बागवानी का बहुत शोक था, और काफ़ी एजेंसियों के माध्यम से वे सामाजिक कार्यों से भी जुड़ी हुई थी ।

किताबें

  • लीला सेठ की जीवनी “ऑन बैलेंस” को 2003 में पेन्गुइन इंडिया ने प्रकाशित किया। “ऑन बैलेंस” में उन्होने अपने प्रारम्भिक वर्षों के संघर्ष, इंग्लैण्ड में अपने पति प्रेम के साथ रहते समय कानून की पढ़ाई शुरू करने, आगे चलके पटना, कलकत्ता और दिल्ली में वक़ालत करने के अनुभव, पचास साल से अधिक के खुशहाल शादी -शुदा जीवन और अपने तीनों बच्चों — लेखक विक्रम, न्याय कार्यकर्ता शान्तम और फ़िल्म निर्माता आराधना के पालन-पोषण के बारे में लिखा है। इसके साथ-साथ ही लीला सेठ ने भ्रष्टाचार पर अपने विचारों; भारत की अदालतों में होने वाले भेदभाव और विलम्ब; शिक्षा से सम्बंधित अदालत के फैसलों व व्यक्तिगत एवं संवैधानिक कानून; और 15वे विधि आयोग के सदस्य होने के अनुभव का भी व्याख्यान किया है। किताब में उनके जीवन की कई यादगार घटनाओं का भी उल्लेख है — कैसे प्रेम और उन्होने पटना में एक पुरानी हवेली को शानदार घर में तबदील कर दिया, उस समय जब विक्रम अपना उपन्यास “अ सूटेबल बॉय” लिख रहे थे, और जब बौद्ध संन्यासी ने शान्तम को दीक्षा दी, आराधना का ऑस्ट्रीयाई राजनयिक पीटर से विवाह और आराधना का अर्थ और वॉटर जैसी फ़िल्मों पर निर्माता और प्रोडक्शन डिज़ाइनर के रूप में काम करना।
  • 2010 में लीला सेठ ने “वी, द चिल्ड्रन ऑफ़ इंडिया” लिखी। यह किताब बच्चों को भारतीय संविधान की उद्देशय समझाती है।
  • इसके बाद 2014 में उनकी किताब “टॉकिंग ऑफ़ जस्टिस: पीपल्ज़ राईट्स इन मॉडर्न इंडिया” प्रकाशित हुई, जिसमें उन्होने अपने लम्बे कानूनी सफर में जिन महत्वपूर्ण मुद्दों पर काम किया है उन के पर चर्चा की

मृत्यु

5 मई 2017 को नोएडा मे लीला सेठ का देहांत हो गया ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close