पी. चिदंबरम की जीवनी – P. Chidambaram Biography Hindi

August 21, 2019
Spread the love

पी. चिदंबरम एक भारतीय राजनेता और वकील है। वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से संबद्ध से रखते है। इसके अतरिक्त वे मई 2004 से नवंबर 2014 तक भारत के वित्त मंत्री रह चुके हैं। नवंबर 2008 में मुंबई पर हुए आतंकी हमलों के पश्चात् विवादों में घिरे शिवराज पाटिल के इस्तीफे की वज़ह से चिदंबरम को भारत के गृह मंत्री बनाया गया था। गृह मंत्री के रूप में साढ़े तीन साल के कार्यकाल के बाद इन्हें मनमोहन सिंह सरकार में पुनः वित्त मंत्री नियुक्त किया गया। चिदंबरम अब तक लोकसभा में 7 बजट प्रस्तुत कर चुके हैं, जिसमें संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन में वित्त मंत्री के नाते उन्होंने 5 बजट प्रस्तुत किए हैं। मनी लॉन्ड्रिंग मामले में वे काफी सुर्खियों में है। तो आइए आज इस आर्टिकल में हम आपको पी. चिदंबरम की जीवनी – P. Chidambaram Biography Hindi के बारे में बताएगे।

Read This -> नरेंद्र मोदी की जीवनी – Narendra Modi Biography Hindi

पी. चिदंबरम की जीवनी – P. Chidambaram Biography Hindi

पी. चिदंबरम की जीवनी - P. Chidambaram Biography Hindi

जन्म

पी. चिदंबरम का जन्म 16 सितंबर 1945 को तमिलनाडु राज्य के शिवगंगा जिले के कनाडुकथन गाँव में हुआ था। उनकी माता का नाम लक्ष्मी आची (Lakshmi Achi) तथा उनके पिता का नाम Palaniappa Chettiar था। उनका पूरा नाम पलनिअप्पन चिदंबरम है तथा उनके दो भाई और एक बहन है। पी. चिदंबरम की शादी नलिनी चिदंबरम के साथ हुई है और उनका एक बेटा कार्ति पी. चिदंबरम है, जो कांग्रेस पार्टी के राजनेता हैं।

शिक्षा

उन्होने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज हायर सेकेंडरी स्कूल से प्राप्त की। इसके बाद उन्होंने लोयोला कॉलेज, चेन्नई से एक वर्षीय प्री यूनिवर्सिटी कोर्स पास किया। पी. चिदंबरम ने चेन्नई के प्रेसीडेंसी कॉलेज से सांख्यिकी में बैचलर ऑफ साइंस (बीएसी) की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद उन्होंने मद्रास लॉ कॉलेज से बैचलर ऑफ लॉ (एलएलबी) की डिग्री हासिल की, जिसे वर्तमान में डॉ. अंबडेकर गवर्मेंट लॉ कॉलेज, चेन्नई के नाम से जाना जाता है। उन्होंने हार्वर्ड बिजनेस स्कूल से बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एमबीए) की डिग्री हासिल की। वह चेन्नई उच्च न्यायालय में एक वकील के रूप में नामांकित है और उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय में और देश के विभिन्न उच्च न्यायालयों में भी इसका अभ्यास किया है।

Read This -> राहुल गांधी की जीवनी – Rahul Gandhi Biography Hindi

करियर

  • चिदंबरम पहली बार वर्ष 1984 में, लोकसभा में तमिलनाडु राज्य के शिवगंगा निर्वाचन क्षेत्र से निर्वाचित हुए थे। पी. चिदंबरम की जीवनी – P. Chidambaram Biography Hindi
  • वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी से चुनाव लड़े और वर्ष 1989, वर्ष 1991, वर्ष 1996, वर्ष 1998, वर्ष 2004 और वर्ष 2009 के उत्तरार्ध में उसी निर्वाचन क्षेत्र से फिर से निर्वाचित हुए।
  • वर्ष 1986 में उन्होंने कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय में राज्य मंत्री के रूप में सेवा की और इन्हें गृह मंत्रालय में आंतरिक सुरक्षा के लिए राज्यमंत्री के रूप में अतिरिक्त जिम्मेदारी भी प्रदान की गई थी।
  • वर्ष 1991 में पी. चिदंबरम को वाणिज्य मंत्रालय का राज्यमंत्री बनाया गया था, लेकिन एक साल बाद कुछ विवादों के कारण इन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।
  • वर्ष 1995 में वह फिर से उसी पद पर नियुक्त हुए और उन्होंने भारत में आयात और निर्यात की नीतियों में कुछ संशोधन भी किए।
  • वर्ष 1996 में पी. चिदंबरम ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया और मूपनार के साथ तमिल मनीला कांग्रेस (टीएमसी) पार्टी का गठन किया तथा लोकसभा में तृणमूल कांग्रेस पार्टी के सांसद बने।
  • वर्ष 1996 के आम चुनाव में तृणमूल कांग्रेस पार्टी ने राष्ट्रीय और क्षेत्रीय पार्टी के साथ गठबंधन करके अपनी सरकार बनाई और पी. चिदंबरम को केंद्रीय वित्त मंत्री के पद पर नियुक्त किया गया।
  • वर्ष 1998 में गठबंधन सरकार गिरने के बाद भी उन्होंने दो साल तक वित्त मंत्री का कार्यभार संभाला था।
  • वर्ष 2001 में उन्होंने तृणमूल पार्टी से अलग होकर अपनी “कांग्रेस जनानायक पेरावई” पार्टी का गठन किया।
  • इसके बाद में उन्होंने 2004 में अपनी पार्टी को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के साथ जोड़ लिया था।
  • उसी वर्ष प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा पी. चिदंबरम को वित्त मंत्री के पद पर नियुक्त किया गया था।
  • वर्ष 2008 तक वह इसी पद पर कार्यरत रहे और बाद में उसी साल शिवराज पाटिल पर अत्याधिक दबाव पड़ने के कारण, उनके द्वारा अपना इस्तीफा देने के बाद, पी. चिदंबरम को केंद्रीय गृह मंत्री के पद पर नियुक्त किया गया था।
  • उन्होंने वर्ष 2009 तक गृह मंत्री के रूप में देश की सेवा की।
  • जुलाई 2012 में, जब प्रणव मुखर्जी ने भारत के राष्ट्रपति बनने के लिए वित्त मंत्री का पद छोड़ दिया था, तो पी. चिदंबरम को वित्त मंत्री के पद पर नियुक्त किया गया था।
  • पी. चिदंबरम ने भारत के वित्तीय और वाणिज्यक क्षेत्र में अपना काफी महत्वपूर्ण योगदान दिया है।
  • वर्ष 2008 के बजट के दौरान, भारतीय अर्थव्यवस्था की सामूहिक जरूरत तथा किसानों के कर्ज को माफ करने में उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी और इस प्रकार मंदी के प्रभाव से भारत की रक्षा भी की थी।
  • वर्ष 1996 से 1997 के “ड्रीम-बजट” में, पी. चिदंबरम ने असहनीय राजकोषीय घाटे से निपटने के लिए, एक महत्वाकांक्षी कर सुधार कार्यक्रम की शुरूआत करके सरकार के खर्च को अनुशासित कर दिया था।
  • चिदंबरम अब तक लोकसभा में 7 बजट प्रस्तुत कर चुके हैं, जिसमें संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन में वित्त मंत्री के नाते उन्होंने 5 बजट प्रस्तुत किए हैं।

आरोप

वित्‍त मंत्री के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआइपीबी) ने दो उपक्रमों को मंजूरी दी थी। आइएनएक्स मीडिया मामले में सीबीआई ने 15 मई, 2017 को प्राथमिकी दर्ज की थी। इसमें आरोप लगाया गया है कि चिदंबरम के कार्यकाल के दौरान 2007 में 305 करोड़ रुपये की विदेशी धनराशि प्राप्त करने के लिए मीडिया समूह को दी गई एफआइपीबी मंजूरी में अनियमितताएं हुई। इसके बाद ईडी ने पिछले साल इस संबंध में मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया था।

20 अगस्त 2019 को, दिल्ली उच्च न्यायालय ने INX मीडिया मामले में चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया। उन्हें वित्त मंत्री के रूप में यूपीए सरकार के दौरान भ्रष्टाचार के आरोपों में लगाया गया था।

पुस्तक

  • Stronger Branches, Deeper Roots: The Democratisation of India’s Economic Reforms – 1999
  • International Capital Flows and Exchange Rate Management: East Asian and Indian Experiences – 2000
  • A View from the Outside – 2007
  • Standing Guard: A Year in Opposition – 2016
  • Vipaksh Me Bekhouf – Fearless in Opposition – 2017
  • Speaking Truth to Power: My Alternative View – 2018
  • Undaunted: Saving the Idea of India – 2019

Leave a comment