Biography Hindi

प्रशांत चंद महालनोबिस की जीवनी – Prashant Chand Mahalanobis Biography Hindi

Prashant Chand Mahalanobis प्रसिद्ध भारतीय वैज्ञानिक और सांख्यिकीविद थे। उन्हे दूसरी पंचवर्षीय योजना का मसौदा तैयार करने के कारण जाना जाता है। स्वतंत्र भारत के पहले मंत्रिमंडल में वह सांख्यिकी सलाहकार बने थे। महालनोबिस दूरी का सिद्धान्त दिया, जो सांख्यिकी की एक माप के रूप में स्थापित किया। इनके नाम पर 29 जून को सांख्यिकी दिवस के रूप में मनाया जाता है। 1968 में उन्हे पद्म विभूषण से नवाजा गया। तो आइए आज इस आर्टिकल में हम आपको प्रशांत चंद महालनोबिस की जीवनी – Prashant Chand Mahalanobis Biography Hindi के बारे में बताएगे।

प्रशांत चंद महालनोबिस की जीवनी – Prashant Chand Mahalanobis Biography Hindi

प्रशांत चंद महालनोबिस की जीवनी - Prashant Chand Mahalanobis Biography Hindi

जन्म

प्रशांत चंद महालनोबिस का जन्म 29 जून 1893 को कलकत्ता, बंगाल को हुआ था। उनके पिता का नाम प्रबोध चंद महालनोबिस तथा उनकी माता का नाम निरोदबसिनी था। कोलकाता में प्रशांत चन्द्र महालनोबिस की मुलाकात निर्मला कुमारी से हुई जो हेरम्भाचंद मित्रा की पुत्री थीं। हेरम्भाचंद एक अग्रणी शिक्षाविद और ब्राह्मो समाज के सदस्य थे। 27 फरवरी 1923 को दोनों ने हेरम्भाचंद की मर्जी के विरुद्ध विवाह कर लिया। प्रशांत के मामा सर नीलरतन सरकार ने कन्या के पिता का रस्म अदा किया।

शिक्षा

Prashant Chand Mahalanobis की प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा उनके दादा, गुरु चरन महालनोबिस द्वारा स्थापित ब्रह्मो ब्वायज स्कूल में हुई। उन्होंने मैट्रिक की परीक्षा इसी स्कूल से 1908 ई में पास की। प्रेसीडेंसी कालेज से भौैतिकी विषय में आनर्स करने के बाद उच्च शिक्षा ग्रहण करने के लिए ये लंदन चले गए। वहां इन्होंने कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से भौतिकी और गणित दोनों विषयों से डिग्री हासिल की। ये एकमात्र छात्र थे, जिसने भौतिकी में पहला स्थान प्राप्त किया था। उसके बाद ये कोलकाता लौट आए।

भारतीय सांख्यिकी संस्थान

Prashant Chand Mahalanobis के कई सहयोगियों ने सांख्यिकी में दिलचस्पी लेना प्रारंभ किया और धीरे-धीरे ये समूह बढ़ता ही गया। ये सभी लोग प्रशांत के प्रेसीडेंसी कॉलेज कमरे में इकठ्ठे होते थे। 17 दिसंबर 1931 को भारतीय सांख्यिकी संस्थान की स्थापना हुई और 28 अप्रैल 1932 को औपचारिक तौर पर पंजीकरण करा लिया गया।

प्रारंभ में संस्थान प्रेसीडेंसी कॉलेज के भौतिकी विभाग से चलाया गया पर धीरे-धीरे इसके सदस्यों ने जैसे जैसे इस दिशा में काम किया वैसे-वैसे संस्थान भी बढ़ता गया।

‘बायोमेट्रिका’ के तर्ज पर सन 1933 में संस्थान के जर्नल ‘संख्या’ की स्थापना हुई।

सन 1938 में संस्थान का प्रशिक्षण प्रभाग स्थापित किया गया। सन 1959 में भारतीय सांख्यिकी संस्थान को ‘राष्ट्रिय महत्त्व का संस्थान’ घोषित किया गया और इसे ‘डीम्ड विश्वविद्यालय’ का दर्जा दिया गया।

कोलकाता के अलावा भारतीय सांख्यिकी संस्थान की शाखाएं दिल्ली, बैंगलोर, हैदराबाद, पुणे, कोयंबटूर, चेन्नई, गिरिडीह सहित भारत के दस स्थानों में हैं। इसका मुख्यालय कोलकाता में है जहाँ मुख्य रूप से सांख्यिकी की पढ़ाई होती है।

सांख्यिकी में योगदान

आचार्य ब्रजेन्द्रनाथ सील के निर्देशन में Prashant Chand Mahalanobis ने सांख्यिकी पर काम करना शुरु किया और इस दिशा में जो सबसे पहला काम उन्होंने किया, वह था कालेज के परीक्षा परिणामों का विश्लेषण। इस काम में उन्हें काफी सफलता मिली। इसके बाद महालनोबिस ने कोलकाता के ऐंग्लो-इंडियंस के बारे में एकत्र किए गए आंकड़ों का विश्लेषण किया। यह विश्लेषण और इसका परिणाम भारत में सांख्यिकी का पहला शोध-पत्र कहा जा सकता है।

महालनोबिस का सबसे बड़ा योगदान उनके द्वारा शुरु किया गया ‘सैंपल सर्वे’ की संकल्पना है। इसके आधार पर आज के युग में बड़ी-बड़ी नीतियां और योजनाएं बनाई जा रही हैं।

महालनोबिस की प्रसिद्धि ‘महालनोबिस दूरी’ के कारण भी है जो उनके द्वारा सुझाया गयी एक सांख्यिकीय माप है।

सम्मान और पुरस्कार

  • 1944 में Prashant Chand Mahalanobis को ‘वेलडन मेडल’ पुरस्कार दिया गया।
  • 1945 में लन्दन की रॉयल सोसायटी ने उन्हें अपना फेलो नियुक्त किया।
  • 1950 में उन्हें ‘इंडियन साइंस कांग्रेस’ का अध्यक्ष चुना गया।
  • अमेरिका के ‘एकोनोमेट्रिक सोसाइटी’ का फेलो नियुक्त किया गया।
  • 1952 में पाकिस्तान सांख्यिकी संस्थान का फेलो बनाया गया।
  • पी.सी. को रॉयल स्टैटिस्टिकल सोसाइटी का मानद फेलो 1954 में नियुक्त किया गया।
  • 1957 में उन्हें देवी प्रसाद सर्वाधिकार स्वर्ण पदक दिया गया।
  • 1959 में उन्हें किंग्स कॉलेज का मानद फेलो नियुक्त किया गया।
  • 1957 में अंतर्राष्ट्रीय सांख्यिकी संस्थान का ऑनररी अध्यक्ष बनाया गया।
  • Prashant Chand Mahalanobis का जन्‍मदिन 29 जून, हर वर्ष भारत में ‘सांख्यिकी दिवस’ के रूप में मनाया जाता है।
  • 1968 में उन्हे पद्म विभूषण से नवाजा गया।
  • 1968 में उन्हें श्रीनिवास रामानुजम स्वर्ण पदक दिया गया।
  • 29 जून 2018 को मशहूर सांख्यिकीविद और वैज्ञानिक Prashant Chand Mahalanobis का 125वां जन्मदिन है और इस अवसर पर गूगल ने उन्हें डूडल बनाकर सलाम किया है। प्रशांत चंद महालनोबिस को सांख्यिकी में उल्लेखनीय काम करने के लिए जाना जाता है। इस डूडल को निशांत चौकसी ने बनाया है। महालनोबिस ने पॉप्युलेशन स्टडीज में माप के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले ‘महालनोबिस डिस्टेंस’ का आविष्कार किया था। वे पहले योजना आयोग के सदस्य थे और उन्होंने ‘भारतीय सांख्यिकी संस्थान’ (इंडियन स्टैटिस्टिकल इंस्टीट्यूट) स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इसके साथ ही उन्होंने ‘नैशनल सैंपल सर्वे ऑफिस’ (NSSO) और ‘सेंट्रल स्टैटिस्टिकल ऑर्गनाइजेशन’ (CSO) का भी गठन किया था।

मृत्यु

प्रशांत चंद महालनोबिस की मृत्यु 28 जून, 1972 को हुई।

Sonu Siwach

नमस्कार दोस्तों, मैं Sonu Siwach, Jivani Hindi की Biography और History Writer हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Graduate हूँ. मुझे History content में बहुत दिलचस्पी है और सभी पुराने content जो Biography और History से जुड़े हो मैं आपके साथ शेयर करती रहूंगी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close