https://www.googletagmanager.com/gtag/js?id=UA-86233354-15
Biography Hindi

राजेश खन्ना की जीवनी – Rajesh Khanna Biography Hindi

राजेश खन्ना बॉलीवुड अभिनेता, फिल्म निर्माता और राजनेता थे। उन्होने 1965 में ऑल इंडिया टैलेंट कांटेस्ट जीता था। बॉलीवुड में उनकी पहली फिल्म 1966 में आई फिल्म आखिरी खत थी। वे हिन्दी सिनेमा के पहले सुपरस्टार रहे। उन्होने अपने फिल्मी करियर के दौरान 180 फिल्मों में काम किया। राजेश खन्ना को तीन बार फिल्म फेयर अवार्ड और चार बार बंगाल फिल्म जर्नलिस्ट अवार्ड मिले थे। राजेश खन्ना को 2005 में फिल्म फेयर लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड तथा 2013 में मरणोपरांत पद्म भूषण अवार्ड से सम्मानित किया गया था। मुमताज़ के साथ आई उनकी सभी 8 फिल्मे सुपरहिट रही। वे दिल्ली लोकसभा सांसद भी रहे। तो आइए आज इस आर्टिकल में हम आपको राजेश खन्ना की जीवनी – Rajesh Khanna Biography Hindi के बारे में बताएगे।

राजेश खन्ना की जीवनी – Rajesh Khanna Biography Hindi

राजेश खन्ना की जीवनी - Rajesh Khanna Biography Hindi

जन्म

राजेश खन्ना का जन्म 29 जनवरी 1942 को अमृतसर, पंजाब में हुआ था। उनका वास्तविक नाम जतीन हैं। उन्हे जन्म देने वाले माता पिता का नाम पिता लाला हिरानंद तथा चंद्रराणी खन्ना था। उन्हे गोद लेने वाले माता पिता का नाम चुन्नीलाल खन्ना तथा लीलावती खन्ना था। राजेश खन्ना का विवाह 1973 में बॉलीवुड अभिनेत्री डिंपल कपाड़िया के साथ हुआ था। राजेश की उम्र अभिनेत्री डिंपल कपाड़िया से लगभग दोगुनी थी। उनकी बेटियों के नाम ट्विंकल खन्ना और रिंकी खन्ना हैं।

शिक्षा

राजेश खन्ना ने मुंबई में स्थित गिरगाँव के सेंट सेबेस्टियन हाई स्कूल में एडमिशन लिया। जहाँ राजेश के क्लासफेलो रवि कपूर थे, जो आगे चलकर हिन्दी फिल्मों में जीतेन्द्र के नाम से प्रसिद्ध हुए। शिक्षा के साथ-साथ राजेश खन्ना को नाटकों में अभिनय करना पसन्द था। राजेश ने कॉलेज के समय पर नाटकों में अभिनय किया तथा कई पुरस्कार भी जीते।

करियर

उन्होने 1965 में ऑल इंडिया टैलेंट कांटेस्ट जीता था। राजेश खन्ना के फ़िल्मी करियर की शुरुआत बॉलीवुड में उनकी पहली फिल्म 1966 में आई फिल्म आखिरी खत थी।जिसे चेतन आनन्द ने निर्देशित किया था। राजेश की दूसरी फिल्म “राज” थी, जिसे रविन्द्र दावे ने निर्देशित किया था। 1969 से 1971 के मध्य राजेश खन्ना ने लगातार 15 हिट फिल्मों में अभिनय किया था। । वे हिन्दी सिनेमा के पहले सुपरस्टार रहे। उन्होने अपने फिल्मी करियर के दौरान 180 फिल्मों में काम किया। 1991 के बाद राजेश खन्ना का दौर खत्म होने लगा। बाद में वे राजनीति में आये और 1991 वे नई दिल्ली से कांग्रेस की टिकट पर संसद सदस्य चुने गये।

फिल्में

  • 2002 क्या दिल ने कहा
  • 2001 प्यार ज़िन्दगी है
  • 1999 आ अब लौट चलें
  • 1991 रुपये दस करोड़
  • 1990 स्वर्ग
  • 1989 मैं तेरा दुश्मन
  • 1988 विजय
  • 1987 नज़राना
  • 1987 आवाम
  • 1987 गोरा
  • 1986 अमृत
  • 1986 अनोखा रिश्ता
  • 1986 अंगारे
  • 1986 नसीहत
  • 1986 शत्रु
  • 1985 आवारा बाप
  • 1985 निशान
  • 1985 आखिर क्यों?
  • 1985 ज़माना
  • 1985 अलग अलग
  • 1985 हम दोनों
  • 1985 बाबू
  • 1985 बेवफ़ाई
  • 1985 दुर्गा
  • 1985 मास्टर जी
  • 1985 नया बकरा
  • 1985 ऊँचे लोग
  • 1984 आशा ज्योति
  • 1984 आवाज़
  • 1984 धर्म और कानून
  • 1984 मकसद
  • 1984 आज का एम एल ए राम अवतार
  • 1984 नया कदम
  • 1983 अवतार
  • 1983 अगर तुम ना होते
  • 1983 सौतन
  • 1982 नादान आनन्द
  • 1982 राजपूत
  • 1982 सुराग
  • 1982 धर्म काँटा
  • 1982 जानवर
  • 1982 अशान्ति
  • 1981 धनवान
  • 1981 दर्द
  • 1981 कुदरत
  • 1980 बंदिश
  • 1980 फ़िर वही रात
  • 1980 आँचल
  • 1980 थोड़ी सी बेवफाई
  • 1979 प्रेम बंधन
  • 1979 अमर दीप
  • 1979 मुकाबला
  • 1979 जनता हवलदार
  • 1978 भोला भाला
  • 1978 नौकरी
  • 1977 अनुरोध
  • 1977 कर्म
  • 1977 छलिया बाबू
  • 1977 आईना
  • 1977 आशिक हूँ बहारों का
  • 1977 पलकों की छाँव में
  • 1977 त्याग
  • 1976 महबूबा
  • 1976 महा चोर
  • 1975 प्रेम कहानी
  • 1974 आप की कसम
  • 1974 रोटी
  • 1974 हमशक्ल
  • 1974 प्रेम नगर
  • 1974 अजनबी
  • 1974 अविष्कार
  • 1973 नमक हराम
  • 1973 दाग
  • 1973 अनुराग
  • 1972 मेरे जीवन साथी
  • 1972 अपना देश
  • 1972 बावर्ची
  • 1972 शहज़ादा
  • 1972 मालिक
  • 1972 जोरू का गुलाम
  • 1972 दिल दौलत दुनिया
  • 1972 मेहबूब की मेहन्दी
  • 1972 अमर प्रेम
  • 1971 हाथी मेरे साथी
  • 1971 अंदाज़
  • 1972 दुश्मन
  • 1971 छोटी बहू
  • 1970 सच्चा झूठा
  • 1971 आनन्द
  • 1971 आन मिलो सजना
  • 1971 कटी पतंग
  • 1970 सफर
  • 1969 बंधन
  • 1969 दो रास्ते
  • 1969 आराधना
  • 1967 बहारों के सपने

पुरस्कार

  • राजेश खन्ना को तीन बार फिल्म फेयर अवार्ड और चार बार बंगाल फिल्म जर्नलिस्ट अवार्ड मिले थे।
  • उन्हे 2005 में फिल्म फेयर लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्डसे सम्मानित किया गया।
  • 2013 में मरणोपरांत पद्म भूषण अवार्ड से सम्मानित किया गया था।

मृत्यु

18 जुलाई 2012 को कैंसर के कारण राजेश खन्ना की मृत्यु हो गई।

Sonu Siwach

नमस्कार दोस्तों, मैं Sonu Siwach, Jivani Hindi की Biography और History Writer हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Graduate हूँ. मुझे History content में बहुत दिलचस्पी है और सभी पुराने content जो Biography और History से जुड़े हो मैं आपके साथ शेयर करती रहूंगी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close