Biography Hindi

राममनोहर लोहिया की जीवनी – Ram Manohar Lohiya Biography Hindi

भारत के महत्वपूर्ण आन्दोलन में भाग लेने वाले राममनोहर लोहिया ने ही हिंद किसान पंचायत का गठन किया था और इसके अलावा वे भारत छोड़ो आंदोलन के समय गुप्त गतिविधियों के प्रमुख भी रहे. आज इस आर्टिकल में हम आपको राममनोहर लोहिया की जीवनी – Ram Manohar Lohiya Biography Hindi के बारे में बताने जा रहे है.

राममनोहर लोहिया की जीवनी – Ram Manohar Lohiya Biography Hindi

राममनोहर लोहिया की जीवनी

जन्म

राममनोहर लोहिया का जन्म 23 मार्च 1910 ई. को अंबेडकर नगर जिले के अकबरपुर गांव में हुआ था। उनके पिता का नाम श्री हीरालाल था और वो पेशे से एक अध्यापक थे. उनके पिता एक सच्चे देशभक्त थे. उनकी माता का नाम चन्दा देवी था और उनकी माता का देहांत लोहिया के ढाई वर्ष की आयु में ही हो गया था.

शिक्षा

उन्होंने चौथी क्लास तक टंडन पाठशाला में शिक्षा ली और उसके बाद में वे विश्वेश्वरनाथ हाईस्कूल में दाखिला ले कर पढने लगे. उन्होंने बम्बई के मारवाड़ी स्कुल में भी प्रवेश लिया लेकिन गांधी जी से प्रेरित होकर उन्होंने 10 वर्ष की आयु में अपनी पढाई छोड़ दी.

योगदान

वे गाँधी जी के समर्थक थे तथा 10 वर्ष की अवस्था में उन्होंने एक सत्याग्रह यात्रा में भाग लिया। उन्होंने 1928 में साइमन आयोग के विरुद्ध में छात्र आंदोलन का नेतृत्व किया।

लोहिया कट्टर समाजवादी थे तथा 1934 ई. में हुई कांग्रेस समाजवादी पार्टी के गठन में उन्होंने महत्वपूर्ण योगदान दिया। 1936 ई. में भी अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के सचिव नियुक्त हुए। 1942 ई. के भारत छोड़ो आंदोलन के समय गुप्त क्रांतिकारी गतिविधियों के प्रमुख नेता थे। आजादी के बाद किसानों की समस्या को दूर करने के लिए उन्होंने हिंद किसान पंचायत का गठन किया। वे प्रजा सोशलिस्ट पार्टी के महासचिव थे।

रचनाएँ

  • अंग्रेजी हटाओ
  • इतिहास चक्र
  • देश, विदेश नीति-कुछ पहलू
  • धर्म पर एक दृष्टि
  • भारतीय शिल्प
  • भारत विभाजन के गुनहगार
  • मार्क्सवाद और समाजवाद
  • राग, जिम्मेदारी की भावना, अनुपात की समझ
  • समलक्ष्य, समबोध
  • समदृष्टि
  • सच, कर्म, प्रतिकार और चरित्र निर्माण आह्‌वान
  • समाजवादी चिंतन
  • संसदीय आचरण
  • संपूर्ण और संभव बराबरी और दूसरे भाषण
  • हिंदू बनाम हिंदू

निधन

राम मनोहर लोहिया का निधन 12 अक्टूबर, 1947 को विलिंग्डन अस्पताल दिल्ली में उनका निधन हो गया। आज उस हस्पताल को लोहिया हस्पताल कहा जाता है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close