https://www.googletagmanager.com/gtag/js?id=UA-86233354-15
Biography Hindi

ऋषि कपूर की जीवनी – Rishi Kapoor Biography Hindi

ऋषि कपूर (English – Rishi Kapoor ) हिन्दी फ़िल्मों के एक भारतीय फ़िल्म अभिनेता, फ़िल्म निर्माता और निर्देशक है। उन्होने बाल कलाकार के रूप मे भी काम किया।

अपने पिता राज कपूर के द्वारा निर्देशित अपनी पहली फिल्म “मेरा नाम जोकर” में महज 18 वर्ष की उम्र में बेहतरीन भूमिका के लिए ऋषि कपूर को राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

ऋषि को फिल्म अग्निपथ के लिए आईफ़ा बेस्ट नेगेटिव रोल के अवार्ड से भी नवाजा गया।

ऋषि कपूर की जीवनी – Rishi Kapoor Biography Hindi

Rishi Kapoor Biography Hindi
Rishi Kapoor Biography Hindi

संक्षिप्त विवरण

नामऋषि कपूर, चिंटू
पूरा नामऋषि कपूर
जन्म4 सितंबर 1952
जन्म स्थानचेंबूर, मुंबई, महाराष्ट्र, भारत
पिता का नाम स्वर्गीय राज कपूर
माता का नामकृष्णा कपूर
राष्ट्रीयता भारतीय
धर्म हिन्दू

जन्म

Rishi Kapoor का जन्म 4 सितंबर 1952 को चेंबूर, मुंबई, महाराष्ट्र, भारत में हुआ था। ऋषि कपूर का निक नेम चिंटू हैं।

उनके पिता का नाम स्वर्गीय राज कपूर जोकि एक अभिनेता और फिल्मकार थे तथा उनकी माता का नाम कृष्णा कपूर (गृहिणी) है। ऋषि कपूर के दो भाई हैं। रणधीर कपूर और राजीव कपूर और दोनो ही बॉलीवुड अभिनेता हैं।

उनकी की शादी बॉलीवुड अभिनेत्री नीतू कपूर से हुई है। बता दें, ऋषि कपूर और नीतू ने शादी से पहले एक दूसरे को पांच साल तक डेट किया उसके बाद वे शादी के बंधन में बंध गए। ऋषि कपूर के दो बच्चे हैं। रणबीर कपूर और रिधिमा कपूर।

शिक्षा

Rishi Kapoor ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा अपने भाईयों के साथ कैंपियन स्कूल, मुंबई और उसके बाद आगे की पढ़ाई मेयो कॉलेज अजमेर से पूरी की।

करियर

फ़िल्मी परिवार से होने के कारण ऋषि कपूर हमेशा से ही फिल्मों में अभिनय करने की रूचि रखते थे। ऋषि कपूर ने बॉलीवुड में 1970 में अपने पिता की फिल्म ‘मेरा नाम जोकर’ से डेब्यू किया थ। इस फिल्म में ऋषि ने अपने पिता के बचपन का किरदार निभाया था। ऋषि कपूर ने बॉलीवुड में बतौर एक्टर 1973 में फिल्म बॉबी से किया था। इस फिल्म में उनके अपोजिट डिंपल कपाड़िया थीं। उन्होने पहली बार फिल्म श्री 420 (1955) के लोकप्रिय गीत ‘प्यार हुआ इकरार हुआ’ में एक बच्चे के रूप में कार्य किया था।

ऋषि कपूर ने अपने करियर में 1973-2000 तक 92 फिल्मों में रोमांटिक हीरो का किरदार निभाया है। इन्होने बतौर सोलो लीड एक्टर 51 फिल्मों में अभिनय किया है। ऋषि कपूर अपने जमाने के चॉकलेटी हीरोज में से एक थे। उन्होने बॉलीवुड की कई रोमांटिक हिट फ़िल्में दीं। ऋषि ने अपनी पत्नी के साथ 12 फिल्मों में अभिनय किया है।

अभिनय की दुनिया में तहलका मचाने के बाद ऋषि ने निर्देशन में भी हाथ आजमाया। उन्होंने 1998 में अक्षय खन्ना और ऐश्वर्या राय बच्चन अभिनीत फिल्म आ अब लौट चलें निर्देशित की।

Rishi Kapoor ने अपने करियर की शुरुआत से हमेशा ही रोमांटिक किरदार को निभाया था, लेकिन फिल्म अग्निपथ में उनके खलनायक के किरदार को देख सभी हतप्रभ रह गए। ऋषि को फिल्म अग्निपथ के लिए आईफ़ा बेस्ट नेगेटिव रोल के अवार्ड से भी नवाजा गया।

फिल्में

वर्षफ़िल्मचरित्रटिप्पणी
2018मंटो
2018मुल्कमुराद अली मोहम्मद
2016कपूर एंड संसअमरजीत कपूर
2016सनम रेआकाश’स ग्रांडफादर, दाद्दु
2015शादी पुलावलव कपूर
2015All Is Wellश्री भजनलाल भल्ला
2014बेवकूफियांवी.के. सेहगल
2013शुद्ध देसी रोमांसगोयल साहब
2013बेशर्मइंस्पेक्टर चुलबुल चौटाला
2013डी-डेइकबाल सेठ
2013औरंगजेबरविकांत
2013चश्मे बद्दूरजोसेफ फ़र्टाडो
2012अग्निपथरौफ लाला
2012स्टूडेंट ऑफ द ईयरडीन योगिंदर वशिष्ट
2012हाउसफुल 2चिंटू कपूर
2012जब तक है जानइमरान
2011टेल मी ओ खुदाअल्ताफ जरदारी
2011पटियाला हाउसगुरुतेज सिंह काहोलन
2010साड़ियांराजवीर सिंह
2010दो दुनी चारसंतोष दुग्गल
2009Luck by Chanceरोमी रोली
2009चिंटू जीचिंटू जी
2009दिल्ली -6अली बेग
2009प्यार आज कलवीर सिंह
2009कल किसने देखाप्रो सिद्धार्थ वर्मा
2008हल्लाबोलखुद
2008थोड़ा प्यार थोड़ा मैजिकपरमेश्वर
2007डॉन्ट स्टॉप ड्रीमिंग
2007नमस्ते लंदनमनमोहन मल्होत्रा
2007ओम शाँति ओम
2006लव के चक्कर में
2006फ़ना
2005प्यार में ट्विस्टयश खुराना
2004हम तुमअर्जुन कपूर
2003तहज़ीब
2003कुछ तो हैप्रोफेसर बख़्शी
2003लव एट टाइम्स स्क्वैर
2002ये है जलवा
2001कुछ खट्टी कुछ मीठीराज खन्ना
2000राजू चाचा
2000कारोबार
1999जय हिन्द
1997कौन सच्चा कौन झूठा
1996प्रेम ग्रंथ
1996दरार
1995हम दोनोंराजेश ‘राजू’
1995साजन की बाहों मेंसागर
1995यारानाराज
1994ईना मीना डीकाईना
1994साजन का घरअमर खन्ना
1994प्रेम योगराजकुमार राजू
1994पहला पहला प्यारराज
1994मोहब्बत की आरज़ूराजा
1994घर की इज्जतश्याम
1993गुरुदेवइंस्पेक्टर देव कुमार
1993इज़्ज़त की रोटी
1993श्रीमान आशिक
1993साहिबाँगोपी
1993साधनाकरन
1993दामिनीशेखर गुप्ता
1992दीवानारवि
1992बोल राधा बोलकिशन मल्होत्रा/टोनी
1992हनीमूनसूरज वर्मा
1992इन्तेहा प्यार कीरोहित शंकर वालिया
1991बंजारन
1991हिनाचन्दर प्रकाश
1991घर परिवार
1991अज़ूबा
1991रणभूमिभोलानाथ
1990अमीरी गरीबीदीपक भारद्वाज
1990शेषनाग
1990आज़ाद देश के गुलाम
1989खोजरवि कपूर
1989चाँदनीरोहित गुप्ता
1989बड़े घर की बेटीगोपाल
1989हथियार
1989घरानाविजय मेहरा
1988हमारा खानदान
1988विजयविक्रम ए भारद्वाज
1988घर घर की कहानीराम धनराज
1987प्यार के काबिल
1987हवालातश्याम
1987सिंदूर
1987खुदगर्ज़
1986नगीनाराजीव
1986एक चादर मैली सीमंगल
1986नसीब अपना अपनाकिशन सिंह
1986दोस्ती दुश्मनी
1985राही बदल गये
1985तवायफ़
1985सागररवि
1985ज़मानारवि एस कुमार
1985सितमगरजय कुमार
1984ये इश्क नहीं आसां
1984दुनियारवि
1983कुलीसनी
1983बड़े दिल वाला
1982दीदार-ए-यार
1982ये वादा रहाविक्रम राय बहादुर
1982प्रेम रोग
1981जमाने को दिखाना हैरवि नन्दा
1981नसीबसनी
1980कर्ज़
1980दो प्रेमीचेतन प्रकाश
1980आप के दीवानेराम
1980धन दौलतलकी बड़जात्या सक्सेना
1979सरगमराजू
1979सलाम मेमसाबरमेश
1979झूठा कहीं काअजय राय
1978फूल खिले हैं गुलशन गुलशनविशाल राय
1978बदलते रिश्तेमनोहर धनी
1978पति पत्नी और वो
1978नया दौर
1977दूसरा आदमी
1977अमर अकबर एन्थोनीअकबर
1977चला मुरारी हीरो बनने
1976रंगीला रतन
1976लैला मज़नू
1976बारूदअनूप सक्सेना
1976कभी कभीविक्रम (विकी) खन्ना
1975रफ़ू चक्कर
1975राजा
1974जहरीला इंसानअर्जुन सिंह
1973बॉबीराज नाथ (राजू)
1973यादों की बारात
1970मेरा नाम जोकरकवि राजू

विवाद

  • 2015 में  ऋषि कपूर ने एक ट्वीट करते हुए कहा कि, “वह गऊ मांस खाने वाले हिन्दू हैं” जिससे सोशल मीडिया पर बहुत बवाल हो गया। ऋषि कपूर को इस वजह से फिल्मजगत में कड़ी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा।
  • ऋषि कपूर ने ट्वीटर पर कांग्रेस पार्टी पर आपत्तिजनक टिप्पणी करते हुए कहा कि “कांग्रेस पार्टी तो गांधीवंश की सार्वजनिक सम्पत्ति है” जिसका कांग्रेस पार्टी के समर्थकों ने कड़ा विरोध किया और सार्वजनिक शौचालयों का नाम ऋषि कपूर पर रख दिया।
    ऋषि कपूर शौचालय विवाद
  • 2016 में  अभिनेत्री असिन और राहुल शर्मा की शादी समारोह में ऋषि कपूर के द्वारा कई समस्याएं उत्पन्न की गईं, जिससे पार्टी अव्यवस्थित हो गई। क्योंकि उन्हें समारोह में तेज ध्वनि का संगीत व तेज रोशनी की सजावट से काफी नाराजगी थी। फिर इसके बाद स्थिति को संभालने के लिए राहुल ने ऋषि कपूर से माफ़ी मांगी, परन्तु वह नाराज होकर चले गए, जिसके कारण पार्टी सिर्फ डेढ़ घंटे तक ही चल पाई।

ऋषि कपूर से जुड़ी 10 बेहतरीन डायलॉग

1. हर इश्क का एक वक़्त होता है, वह हमारा वक़्त नहीं था पर इसका यह मतलब नहीं कि वह इश्क़ नहीं था।

2. बादशाहत भाईचारे को नहीं देखती।

3. हम सैंकड़ों जन्म लेते है, कभी पति-पत्नी बनकर, कभी प्रेमी बनकर, तो कभी अनजान बनकर, लेकिन मिलते ज़रूर है आखिर में। नहीं मिलेंगे तो कहानी ख़त्म कैसे होगी।. इसे प्यार कहते हैं।

4. तू साथ होकर भी साथ नहीं होती, अब तो रहत में भी रहत नहीं होती।

5. शराब पीने दे मस्जिद में बैठकर ग़ालिब या वह जगह दिखा दे जहाँ खुदा न हो।

6. नवाज़िश, कर्म, शुक्रिया, मेहेरबानी, मुझे बख्श दिया अपने ने ज़िंदगानी।

7. सभी इंसान एक जैसे ही तो होते है। वही दो हाथ, दो पैर, आँखें, कान, चेहरा। सब एक जैसे ही तो होते है, फिर क्यों कोई एक,सिर्फ एक ऐसा होता है, जो इतना प्यारा लगने लगता है कि अगर उसके लिए जान भी देनी पड़े तो हस्ते हस्ते दी जा सकती है।

8. You have bloody piles in your brains

9. दुनिया के सितम याद न अपनी ही वफ़ा याद, अब कुछ भी नहीं मुझको मोहब्बत के सिवाह याद

10. ज़िंदा लाने की ज़रुरत नहीं, मुर्दे भी चलेंगे।

निधन

ऋषि कपूर को मुंबई के एच एन रिलायंस अस्पताल में आईसीयू में भर्ती करवाया गया था। Rishi Kapoor का निधन 30 अप्रैल 2020 को कैंसर के कारण हुआ।

Sonu Siwach

नमस्कार दोस्तों, मैं Sonu Siwach, Jivani Hindi की Biography और History Writer हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Graduate हूँ. मुझे History content में बहुत दिलचस्पी है और सभी पुराने content जो Biography और History से जुड़े हो मैं आपके साथ शेयर करती रहूंगी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close