रॉबर्ट डाउनी जूनियर की जीवनी – Robert Downey Junior Biography hindi

Spread the love

रॉबर्ट डाउनी जूनियर दुनिया के सबसे बेहतरीन और लोकप्रिय एक्टर्स में से एक है। वे सुपरहिट फिल्म आयरन मैन और ‘शरलॉक होम्स’ की वजह से वह पूरे विश्व में मशहूर हुए हैं। रॉबर्ट डाउनी जूनियर एक प्रसिद्ध अभिनेता, गायक, स्क्रीनप्ले राइटर और निर्माता है । वह हॉलीवुड में एक ऐसे अभिनेता है जिसने भारत में हॉलीवुड फिल्मों के लिए एक नया रुझान पैदा किया है। उनके जैसे फैंस अमेरिका में है वैसे ही भारत में भी उन्हें पसंद करने वाले लोग काफी मिल जाते हैं। रॉबर्ट डॉउनी जूनियर का जीवन काफी उतार-चढ़ाव वाला माना जाता है। ड्रग्स लेने के जुर्म में रॉबर्ट डॉउनी को 1 साल तक जेल में रहना पड़ा था। तो आइए आज इस आर्टिकल में हम आपको रॉबर्ट डाउनी जूनियर की जीवनी- Robert Downey Junior Biography hindi के बारे में बताएंगे।

रॉबर्ट डाउनी जूनियर की जीवनी-  Robert Downey Junior Biography hindi

जन्म

रॉबर्ट डाउनी जूनियर का जन्म 4 अप्रैल, 1965 को अमेरिका के मैनहैटन, न्यूयॉर्क शहर में हुआ था। उनके पिता का नाम रॉबर्ट डॉउनी सीनियर था। उनके पिता भी एक फिल्म निर्माता थे इसके साथ वे एक निर्देशक और स्क्रीनप्ले राइटर भी थे। मां का नाम एल्सी था जो कि एक एक्टर थी। एल्सी वो इंसान थी जिन्होंने रोबोट को एक्टिंग की तरफ रुझान बढ़ाया। रॉबर्ट ने बहुत छोटी उम्र में एक्टिंग शुरू कर दी जब वह केवल 5 वर्ष के थे। तो उन्होने अपनी पहली फिल्म ‘पाउंड’ की थी यह फिल्म रॉबर्ट के पिता ने हीं बनाई थी। उन्होंने इसके बाद भी अपने पिता की कई फिल्मों में छोटे किरदार निभाए। के पिता ड्रग्स लेते थे। उन्होंने अपने बड़े बेटे को केवल 6 वर्ष की उम्र में ही मैंरिजुआना का सेवन करने दिया, जो सेहत के लिए बहुत ही हानिकारक होता है।

रॉबर्ट उस समय बहुत छोटे थे तो उन्हें इन सब चीजों के बारे में कुछ समझ नहीं थी। वे भी अपने पिता की तरह ड्रग्स लेने लगे। जब 8 वर्ष के हुए तो उन्हें भी ड्रग्स की लत लग चुकी थी। रॉबर्ट का बचपन बहुत मुश्किलों में बीता था। उनके माता – पिता का तलाक हो गया और वे अपने माता-पिता के साथ लॉस एंजिल्स में रहने लगे वह भी ड्रग्स लेते थे।

फिल्मों में करियर बनाने के बाद साल 1992 में उन्होंने डेबोराह फालकोनर (Deborah Falconer) से शादी की। शादी के कुछ साल बाद ही उनका सबसे बुरा वक़्त शुरू हुआ। रॉबर्ट डॉनी जुनियर पर नशा करने के चार्ज लगे. जिसके चलते उन्हें जेल की सजा कटनी पड़ी । जेल में रहने के दौरान उन्हें दुसरे कैदी बुरी तरह पिटा करते थे.

एक साल बाद जब वह पेरोल पर जेल से बाहर आये तब उनकी पत्नी ने उन्हें तलाक का नोटिस भेज दिया. साल 2001 तक आते वह कई बार जेल जा चुके थे। उनकी सामाजिक छवि इससे बुरी तरह प्रभावित हुई लेकिन 2004 के बाद उनकी जीवन में काफी नए बदलाव आने लगे। उनकी मुलाकात सुजैन लेविन (Susan levin) से हुई। रॉबर्ट डॉनी जुनियर ने सूजन को प्रोपोस किया लेकिन रॉबर्ट डॉनी जुनियर से सामने सूजन एक एक शर्त रखी कि जब तक वह नशे की लत नहीं छोड़ देते वह उनसे शादी नहीं करेगी रॉबर्ट ने नशे से खुद को पूरी तरह अलग किया और 2005 में रॉबर्ट डॉनी जुनियर और सुजैन ने शादी कर ली.

शिक्षा और करियर

अपने बचपन में डाउनी ने अपने पिता की फ़िल्मों में कई छोटे किरदार निभाए। उन्होंने पाँच साल की उम्र में अभिनय क्षेत्र में अपना पहला कदम ‘पाउंड’ में एक बीमार कुत्ते के पिल्ले की भूमिका से किया और सात साल की उम्र में वे ग्रेज़र्स पैलेस में नज़र आए। जब वे दस साल के हुए तब वे इंग्लैण्ड में रहते थे और शास्त्रीय बैले का शिक्षण ले रहे थे। इसके बाद में उन्होंने न्यू यॉर्क के स्टेजडोर मैनर परफोर्मिंग आर्ट्स ट्रेनिंग सेंटर में दाखिला लिया। 1978 में उनके माता-पिता के तलाक के बाद डाउनी अपने पिता के साथ कैलिफोर्निया चले गए पर 1982 में उन्होंने संता मोनिका हाई स्कुल छोड़ दिया।

रॉबर्ट डॉउनी जब 16 साल के हुए थे तो उन्होंने अपनी पढ़ाई छोड़ दी और वापस न्यूयार्क में अपनी मां के साथ रहने लगे। वह फिर से फिल्मों की तरफ बढ़े और 1983 से 1990 तक कई फिल्मों में काम किया। वह लोगों की नजरों में आने लगे थे। लेकिन उनके ड्रग्स के लेने की आदत जारी थी। 1990 में उन्होंने कई बार नशे से पीछा छुड़ाने की कोशिश की लेकिन वे हर बार उन्हे निराशा ही हाथ लगी। अब हॉलीवुड में उनका करियर रफ्तार पकड़ रहा था। उन्होंने मीडिया की नजरों में बेहतरीन एक्टर की छवि बना ली थी। उनकी कुछ फिल्में काफी हिट भी हुई। 1992 में ‘चैंप्लिन’ फिल्म में एक्टिंग की वजह से ऑस्कर अवार्ड के लिए नामांकित हुए थे

 प्रसिद्ध फिल्म

रॉबर्ट डाउनी जुनियर बचपन में ही छोटे कलाकार के तौर पर फिल्मों से जुड़ चुके थे लेकिन एक परिपक्व अभिनेता के तौर पर करियर बनाने के लिए उन्होंने सबसे पहले थिएटर का सहारा लिया। उन्होंने थिएटर की शुरुआत नॉर्मन लेयर के प्ले “अमेरिकन पैशन” से की। उन्हें फिल्मों में पहली कमियाबी 1985 में आई फिल्म “टफ टफ” से मिली जिसमे उन्होंने जेम्स स्पेडर के सहयोगी की भूमिका निभाई थी। जिसके बाद वह कुछ और फिल्मों में सहायक अभिनेता के रूप में देखे गए।

फिल्मों में लीड एक्टर के रूप में रॉबर्ट डॉनी जुनियर की शुरुआत वर्ष 1987 मे जॉन हूग्स की फिल्म “द पिक-अप आर्टिस्ट” के जरिये हुई. इस फिल्म में उनके रॉबर्ट द्वारा निभाए गए किरदार जैक जेरिको को सभी ने खूब सराहा इस फिल्म के बाद रॉबर्ट डॉनी जुनियर ने ज़ीरो, चैप्लिन, हार्ट एंड सोल, ओनली यु, नैचुरल बॉर्न किलर्स, चांसेस आर , रिस्टोरेशन, टू गर्ल्स एंड अ गाए, एयर अमेरिका, ब्लैक एंड वाईट, शोर्ट कट्स, रिचर्ड III और द लास्ट पार्टी फिल्मों में काम किया। लेकिन आज रॉबर्ट डॉउनी पूरे विश्व में ‘आयरन मैन’ के नाम से ही जाता जाना जाता है।

विवाद

रॉबर्ट डाउनी जुनियर और विवादों की प्रारम्भ 1996 से शुरू हुई। उन्हें कोकेन, हेरोइन और मारिहुँआना जैसे नशीले पदाथों का सेवन करने के चलते गिरफ्तार कर लिया गया था. उन्हें कई दिनों तक नशे की लत को छुडवाने वाले संस्थानों में रखा गया। परंतु उनकी नशे की लत नहीं छुटी। रॉबर्टडाउनी जुनियर ने अनेक बार नशे की आदत को अपनी मज़बूरी बताया क्योंकि उन्हें यह लत 6 साल की उम्र से ही लग गयी थी। उनके पिता भी इस लत का शिकार थे। इस वजह से उन्हें इसके लिए कभी नहीं रोका गया.

रॉबर्ट अपने नशे की लत की वजह से 1996 से लेकर 2001 तक 6 बार जेल जा चुके हैं। और दो साल से ऊपर जेल में सजा भी काट चुके हैं। आखिरी बार उन्हें 2001 में लोस एंजलिस शहर में रस्ते पर नंगे पैर घूमते एक पुलिस अफसर ने पकड़ा था। पुलिस को उन पर ड्रग्स लेने का शक था लेकिन कुछ घंटों के बाद ही उन्हें रिहा कर दिया गया।

अवॉर्ड

  • उन्होंने 1992 में बनी फ़िल्म चैप्लिन में चार्ली चैप्लिन की भूमिका साकरी जिसके लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के अकादमी पुरस्कार के लिए नामांकन प्राप्त हुआ।
  • 2009 में डाउनी ने गाय रिची द्वारा निर्मित फ़िल्म शरलॉक होम्स में शीर्ष किरदार की भूमिका निभाई जिसे 2009 के क्रिसमस को रिलीज़ किया गया। इस पात्र के लिए डाउनी को सर्वश्रेष्ठ अभिनय के लिए गोल्डेन ग्लोब पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए गोल्डन ग्लोब अवार्ड – मोशन पिक्चर म्यूजिकल या कॉमेडी
    2010 · शरलॉक होम्स
  • पसंदीदा मूवी अभिनेता के लिए पीपुल्स च्वाइस अवार्ड
    2015, 2013 · एवेंजर्स
  • मुख्य भूमिका में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए बाफ्टा पुरस्कार
    1993 · चैपलिन
  • सर्वश्रेष्ठ फाइट के लिए एमटीवी मूवी अवार्ड
    2013 · एवेंजर्स
  • सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का शनि पुरस्कार
    2009, 1994 · आयरन मैन, हार्ट एंड सोल
  • एमटीवी जनरेशन अवार्ड
    2015
  • पसंदीदा एक्शन मूवी स्टार के लिए पीपुल्स च्वाइस अवार्ड
    2014
  • पसंदीदा सुपरहीरो के लिए पीपुल्स च्वाइस अवार्ड
    2013 · एवेंजर्स
  • पसंदीदा एक्शन मूवी अभिनेता के लिए पीपुल्स च्वाइस अवार्ड
    2017
  • पसंदीदा नाटकीय मूवी अभिनेता के लिए पीपुल्स च्वाइस अवार्ड
    2015
  • टेलीविज़न के लिए एक श्रृंखला, लघु श्रृंखला या मोशन पिक्चर मेड में सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के लिए गोल्डन ग्लोब अवार्ड
    2001 · सहयोगी McBeal
  • च्वाइस मूवी अभिनेता के लिए टीन च्वाइस अवार्ड: एक्शन / एडवेंचर
    2018, 2013 · एवेंजर्स: इन्फिनिटी वॉर, आयरन मैन 3
  • एक हास्य श्रृंखला में एक पुरुष अभिनेता द्वारा उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए स्क्रीन एक्टर्स गिल्ड अवार्ड
    2001 · सहयोगी McBeal
  • पसंदीदा पुरुष बटकीर के लिए किड्स च्वाइस अवार्ड
    2014 · आयरन मैन 3
  • लंदन फिल्म क्रिटिक्स सर्किल पुरस्कार अभिनेता के लिए
    1992 · चैपलिन
  • सेंट्रल ओहियो फिल्म क्रिटिक्स एसोसिएशन एक्टर ऑफ द ईयर के लिए पुरस्कार
    2009 · आयरन मैन, ट्रॉपिक थंडर

 

रॉबर्ट डाउनी जुनियर से जुड़ी अन्य जानकारी

  • 1985 में 20 वर्ष की उम्र में डाउनी ने टेलिविज़न पर आने वाले शो “सैटर्डे नाईट लाइव” पर काम किया। उस दौरान उन पर किरदारों के रोल के साथ छेड़छाड़ करने के चलते उन्हे शो से धके मार कर बाहर निकल दिया गया था।
  • रॉबर्ट डाउनी जुनियर के जीवन में एक ऐसा समय भी आया जब 1992 में फिल्म “चैपलिन” के लिए उनका नाम ऑस्कर (Oscar) के लिए नामांकित हुआ था यह उनका पहला ऑस्कर नॉमिनेशन था.
  • 2001 तक लोगों ने समझ लिया था कि रॉबर्ट डाउनी जुनियर का करियर पूरी तरह से ख़त्म हो चूका हैं लेकिन उन्होंने नशे की लत को पीछे छोड़कर एक के बाद एक सुपरहिट फिल्म दी।
  • 17 साल की उम्र में ही रॉबर्ट डॉनी जुनियर ने स्कूल छोड़कर एक्टिंग की और रुझान अपना दिखाया और फिल्मों में अपना करियर बनाया।
  • जब रॉबर्ट जेल में थे तब उन्हें किचन साफ़ करने के लिए 7 सेंट एक घंटे के लिए दिए जाते थे।