Biography Hindi

सुनील गावस्कर की जीवनी – Sunil Gavaskar Biography Hindi

सुनील गावस्कर भारत के क्रिकेट के पुराने खिलाड़ी रह चुके हैं. सुनील गावस्कर वर्तमान युग के क्रिकेटरों में महान दिग्गजों में गिने जाते हैं.  इन्होंने बल्लेबाजी से संबंधित कई कीर्तिमान स्थापित किए हैं. सुनील गावस्कर को सनी और लिटिल मास्टर के नाम से भी जाना जाता है. सुनील गावस्कर ने  34 शतक लगाकर उन्होंने डॉन ब्रैडमैन के रिकॉर्ड को तोड़ा था. तो आइए आज इस आर्टिकल में हम आपको सुनील गावस्कर के बारे में बताएंगे.

सुनील गावस्कर की जीवनी

सुनील गावस्कर की जीवनी

जन्म

सुनील गावस्कर का जन्म 10 जुलाई 1949 को मुंबई, महाराष्ट्र में हुआ था. उनका पूरा नाम सुनील मनोहर गावस्कर है. इनके पिता का नाम मनोहर गावस्कर है और माता का नाम मीनल गावस्कर है. इनका विवाह मार्शनील से हुआ है और उनके बेटे का नाम रोहन गावस्कर है. सुनील गावस्कर दाएं हाथ के बल्लेबाज है और उनकी गेंदबाजी का का तरीका दाएं हाथ के मध्यम गति का है.

सुनील गावस्कर की शिक्षा

अपने पढ़ाई के दिनों से ही सुनील गावस्कर एक अच्छे क्रिकेटर के रूप में अपनी पहचान बना चुके थे.  1966 मैं सुनील गावस्कर को भारत का बेस्ट स्कूल ब्वॉय का पुरस्कार मिला था . उन्होंने अपनी शिक्षा St.Xavier’s College-Autonomous, Mumbai और St.Xavier’s High School,Fort से की। सेकेंडरी शिक्षा के अंतिम वर्ष में दो बार लगातार डबल सेंचुरी लगाकर उन्होंने सबका ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर लिया.

1966 में ही उन्होंने रणजी के मैचों में अपना डेब्यू किया, और कॉलेज में उनके खेल के लोग दीवाने हो गए. कर्नाटक में हुए रणजी मैच में उन्होंने दोहरा शतक लगाया चयन करने वालों को अपनी और प्रभावित किया . 1971 में उन्हें वेस्टइंडीज दौरे के लिए टीम के लिए चुना गया.

गावस्कर का बल्लेबाजी में कीर्तिमान

सुनील गावस्कर ने बल्लेबाजी में शुरू से ही कई कीर्तिमान स्थापित किए. सुनील गावस्कर ने विश्व क्रिकेट में 3 बार 1 वर्ष में 1000 रन और सबसे अधिक शतक (34), सबसे अधिक रन (9000 से अधिक), और सबसे अधिक शतक की भागीदारी एवं प्रथम श्रृंखला में सबसे अधिक रन बनाने वाले एकमात्र बल्लेबाज थे. सुनील गावस्कर अपनी हर पारी में और रनों में अपना एक नया इतिहास रचते थे। उन्होंने भारतीय टीम का कुशल नेतृत्व किया और कई महत्वपूर्ण विजय प्राप्त की। जिनमें से एक एशिया कप एवं बेसन एंड हेजेस विश्व कप प्रमुख है।

क्रिकेट का आभूषण कहे जाने वाले गावस्कर ने एकदिवसीय मैचों में भी अपनी टीम के लिए ठोस आधार प्रस्तुत किए हैं। सुनील गावस्कर ने 100 कैचो का कीर्तिमान इंग्लैंड में बना चुके हैं सुनील गावस्कर ने 125 टेस्ट मैचों में 10122 रन बनाए और वे टेस्ट क्रिकेट में 10,000 रन बनाने वाले सबसे पहले क्रिकेटर बने हालांकि बाद में एलन बॉर्डर ने उनका रिकॉर्ड तोड़ दिया उनका यह रिकॉर्ड 20 साल तक सबसे ज्यादा शतक लगाने वाला रिकॉर्ड उनके नाम रहा। लेकिन यह रिकॉर्ड 20 साल बाद मुंबई के ही सचिन तेंदुलकर ने अपने नाम कर लिया।

कप्तान

सुनील गावस्कर बतौर कप्तान औसत रहे। लेकिन उनकी कप्तानी को लेकर कई तरह के विचार है। कप्तान के रूप में सुनील गावस्कर ने टीम को अनुशासित रखा और खतरनाक माने जाने वाली है टीम ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज के खिलाफ टीम के खौफ को निकालने में सफल रहे। सुनील गावस्कर खेलते हुए और खेलने के बाद भी विवादों से घिरे रहे। सन 1981 में मेलबोर्न में गावस्कर को आउट दिए जाने पर उन्होंने अपने सभी साथी खिलाड़ियों को भी मैदान से खींच के बाहर कर दिया। इस बात पर मीडिया ने गावस्कर को लेकर तीखी आलोचना की। इसके बाद हरभजन सिंह के मंकी गेट के बयान पर भी ऑस्ट्रेलिया मीडिया ने गावस्कर की आलोचना की।

पुरस्कार

  • 1975 में अर्जुन अवॉर्ड
  • 1980 में भारत सरकार द्वारा पदम भूषण
  • 1980 में आईसीसी द्वारा विस्डेन अवार्ड

अन्य उपलब्धियां

सुनील गावस्कर के ऊपर कई आत्मकथा तक किताबें भी लिखी गई है जिनमें यह प्रमुख है- ‘ सनिडेज’, ‘आइडल्स’, ‘रन एंड रूइन्स’, ‘वन डे वंडर’।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close