Biography Hindi

सुनीता विलियम्स की जीवनी – Sunita Williams Biography Hindi

सुनीता विलियम्स एक अंतरिक्ष यात्री है। जून 1998 में अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा में उनका चयन हुआ। सुनीता भारतीय मूल की दूसरी महिला है,जो अमेरिका के अंतरिक्ष मिशन पर गई। उन्होने 195 दिन तक अंतरिक्ष में रहने का विश्व रिकॉर्ड बनाया और एक महिला यात्री के तौर पर सबसे ज्यादा सात बार अंतरिक्ष में चहलकदमी करने का रिकॉर्ड भी एक समय  उनके नाम पर था। उन्हें सन  2008 में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। तो आइए आज इस आर्टिकल में हम आपको सुनीता विलियम्स की जीवनी – Sunita Williams Biography Hindi के बारे में बताएगे।

Read This -> अभिनंदन वर्धमान की जीवनी – Abhinandan Varthaman Biography Hindi

सुनीता विलियम्स की जीवनी – Sunita Williams Biography Hindi

सुनीता विलियम्स की जीवनी - Sunita Williams Biography Hindi

जन्म

सुनीता विलियम्स का जन्म 19 सितम्बर 1965 को अमेरिका के ओहियो राज्य में यूक्लिड नगर (स्थित क्लीवलैंड) में हुआ था। उनका पूरा  नाम सुनीता लिन पांड्या विलियम्स था। सुनीता के पिता का नाम दीपक एन. पांड्या  है वे डॉक्टर होने के साथ-साथ एक जाने-माने तंत्रिका विज्ञानी हैं, जो कि भारत के गुजरात राज्य से तालोक्कात रखते हैं। उनकी मां का नाम बॉनी जालोकर पांड्या है जो कि स्लोवेनिया की हैं। उनका एक बड़ा भाई और एक बड़ी बहन भी है जिनका नाम जय थॉमस पांड्या और डायना एन, पांड्या है। जब वे 1995 में Florida Institute of Technology से M.Sc. Engineering Mgmt. की शिक्षा हासिल कर रही थी तभी उनकी मुलाकात माइकल जे. विलियम्स से हुई। वे दोनों पहले दोस्त बने और उनकी ये दोस्ती प्यार में बदल गई जिसके बाद दोनों ने एक-दूसरे से शादी करने का फैसला लिया इस तरह दोनो की शादी हो गई। माइकल जे. विलियम एक नौसेना पोत चालक, हेलीकाप्टर पायलट, परिक्षण पायलट, पेशेवर नौसैनिक और गोताखोर भी है।

शिक्षा

सुनीता विलियम्स  की प्रारम्भिक शिक्षा नीदरम, मैसाचुसेट्स से प्राप्त की है। सुनीता विलियम्स ने 1983 में मैसाचुसेट्स से हाई स्कूल की परीक्षा पास की थी। इसके बाद 1987 में उन्होंने संयुक्त राष्ट्र की नौसैनिक अकादमी से फिजिकल साइन्स में बीएस की परीक्षा उत्तीर्ण की थी। इसके बाद उन्होनें 1995 में फ़्लोरिडा इंस्टिट्यूट ऑफ़ टैक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग मैनेजमेंट में मास्टर ऑफ साइंस की (एम.एस.) की डिग्री हासिल की है।

Read This -> कल्पना चावला की जीवनी – Kalpana Chawla Biography Hindi

करियर

जून 1998 में उनका अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा में चयन हुआ और प्रशिक्षण शुरू हुआ। सुनीता भारतीय मूल की दूसरी महिला हैं जो अमरीका के अंतरिक्ष मिशन पर गईं। सुनीता विलियम्स ने सितंबर / अक्टूबर 2007 में भारत का दौरा भी किया। जून, 1998 से नासा से जुड़ी सुनीता ने अभी तक कुल 30 अलग-अलग अंतरिक्ष यानों में 2770 उड़ानें भरी हैं। साथ ही सुनीता सोसाइटी ऑफ एक्सपेरिमेंटल टेस्ट पायलेट्स, सोसाइटी ऑफ फ्लाइट टेस्ट इंजीनियर्स और अमेरिकी हैलिकॉप्टर एसोसिएशन जैसी संस्थाओं से भी जुड़ी हुई हैं।

पुरस्कार

  • उन्हें सन  2008 में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था।
  • इसके अलावा उन्हें नेवी कमेंडेशन मेडल (2), नेवी एंड मैरीन कॉर्प एचीवमेंट मेडल, ह्यूमैनिटेरियन सर्विस मेडल जैसे कई सम्मानों से सम्मानित किया जा चुका है।
  • 2013 में गुजरात विश्वविद्यालय ने डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्रदान की।
  •  2013 में स्लोवेनिया द्वारा ‘गोल्डन आर्डर फॉर मेरिट्स’ प्रदान किया गया।

रिकॉर्ड

  • सुनीता विलियम्स अपनी पहली अंतरिक्ष यात्रा के दौरान 321 दिन 17 घन्‍टे और 15 मिनट अंतरिक्ष में रहीं। इस लंबे प्रवास के द्धारा उन्होनें विश्व में रिकॉर्ड बनाया। एक उड़ान में इतना लंबा प्रवास करने वाली वे दुनिया की पहली महिला हैं।
  • भारतीय मूल की अंतरिक्ष यात्री सुनीता विलियम्स अंतरिक्ष में सबसे ज्यादा स्पेसवॉक करने वाली पहली महिला अंतरिक्ष यात्री हैं। आपको बता दें कि उनके द्धारा किए गए 7 स्पेसवॉक की कुल अवधि 50 घंटा 40 मिनट की थी।
  • अंतराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन की कमांटर बनने वाली वे दुनिया की दूसरी महिला हैं।

Sonu Siwach

नमस्कार दोस्तों, मैं Sonu Siwach, Jivani Hindi की Biography और History Writer हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Graduate हूँ. मुझे History content में बहुत दिलचस्पी है और सभी पुराने content जो Biography और History से जुड़े हो मैं आपके साथ शेयर करती रहूंगी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close