https://www.googletagmanager.com/gtag/js?id=UA-86233354-15
Biography Hindi

यश चोपड़ा की जीवनी – Yash Chopra Biography Hindi

यश चोपड़ा हिन्दी फिल्मों के एक प्रसिद्ध निर्देशक थे। उन्होंने अपने भाई बी० आर० चोपड़ा और आई० एस० जौहर के साथ बतौर सहायक निर्देशक फिल्म जगत में प्रवेश किया। 1959 में उन्होंने अपनी पहली फिल्म धूल का फूल बनायी थी। Yash Chopra Biography Hindi

उसके बाद 1961 में धर्मपुत्र आयी। 1965 में बनी फिल्म वक़्त से उन्हें अपार शोहरत हासिल हुई। उन्हें फिल्म निर्माण के क्षेत्र में कई पुरस्कार व सम्मान प्राप्त हुए।

बालीवुड जगत से फिल्म फेयर पुरस्कार, राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, दादा साहेब फाल्के पुरस्कार के अतिरिक्त भारत सरकार ने उन्हें 2005 में भारतीय सिनेमा में उनके योगदान के लिए पद्म भूषण से सम्मानित किया। Yash Chopra Biography Hindi

यश चोपड़ा की जीवनी
Yash Chopra Biography Hindi

पृष्ठभूमि

यश चोपड़ा का जन्म 27 सितम्बर 1932 को ब्रिटिश भारत में पंजाब प्रान्त के ऐतिहासिक नगर लाहौर में हुआ था। उनका पूरा नाम यश राज था जिसमें से उन्होंने यश अपना लिया और राज को राज़ ही रहने दिया।

शादी

यश चोपड़ा की शादी पामेला चोपड़ा से हुई है। उनके दो बेटे हैं-उदय चोपड़ा और आदित्य चोपड़ा। आदित्य चोपड़ा फिल्म निर्माता-निर्देशक हैं, वहीं उनका छोटा बेटा हिंदी फिल्म अभिनेता है।

फ़िल्मी करियर

यशराज बे अपने करियर की शुरुआत सहायक निर्देशक के रूप में की। यह काम उन्होंने आई० एस० जौहर के साथ बतौर उनके सहायक बनकर किया था। बाद में उनके बड़े भाई बी० आर० चोपड़ा ने, जो बम्बई में पहले से ही स्थापित हो चुके थे, उन्हें 1959 में अवैध सम्बन्धों के भावों को आगृत करने वाले नाटक पर आधारित फिल्म “धूल का फूल” के निर्देशन के साथ स्वतन्त्र रूप से फिल्मी कैरियर की शुरुआत करने में सहायता की। इसके पश्चात एक अन्य सामाजिक नाटक “धर्मपुत्र” पर आधारित फिल्म का निर्माण 1961 में करके एक और धमाका किया। इन दोनों फिल्मों की सफलता से प्रोत्साहित चोपड़ा भाइयों ने अन्य भी कई फिल्में उन्नीस सौ साठ के दशक में बनायीं। 1965 में “वक़्त” की अपार लोकप्रियता से उत्साहित होकर उन्होंने स्वयं की फिल्म निर्माण कम्पनी “यश राज फिल्म्स” की स्थापना 1973 में कर डाली।

1973 में “दाग” फिल्म बनाने के दो साल बाद ही 1975 में “दीवार”, 1976 में “कभी कभी” और 1978 में “त्रिशूल” जैसी फिल्में बनाकर अभिनेता के रूप में उन्होंने अमिताभ बच्चन को बालीवुड में स्थापित किया। 1981 में “सिलसिला”, 1984 में “मशाल” और 1988 में बनी “विजय” उनकी यादगार फिल्मों के रूप में चिह्नित हैं। 1989 में उन्होंने वाणिज्यिक और समीक्षकों की दृष्टि में सफल फिल्म “चाँदनी” का निर्माण किया जिसने बॉलीवुड में हिंसा के युग के अन्त और हिन्दी फिल्मों में संगीत की वापसी में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी।

1991 में उन्होंने क्लासिकल फिल्म “लम्हे” बनायी जिसे फिल्म जगत के समस्त आलोचकों द्वारा और स्वयं चोपड़ा की दृष्टि में उनके सबसे अच्छे काम के रूप में स्वीकार किया गया। 1993 में नवोदित कलाकार शाहरुख खान को लेकर बनायी गयी फिल्म “डर” ने उनका सारा डर दूर कर दिया। 1997 में “दिल तो पागल है”, 2004 में “वीरजारा” और 2012 में “जब तक है जान” का निर्माण करके 2012 में ही उन्होंने फिल्म-निर्देशन से अपने संन्यास की घोषणा भी कर दी थी। चलचित्र निर्माण और वितरण कम्पनी के रूप में यश राज फिल्म्स 2006 से लगातार भारत की सबसे बड़ी फिल्म-कम्पनी है। यही नहीं, यश चोपड़ा जी “यश राज स्टूडियो” के संस्थापक अध्यक्ष के रूप में भी जब तक बालीवुड रहेगा, जाने जायेंगे।

प्रमुख फिल्में

बतौर निर्माता

वर्षफ़िल्म
2007लागा चुनरी में दाग
2000मोहब्बतें
1982सवाल

 

बतौर निर्देशक

वर्षफ़िल्म
2004वीर-ज़ारा
1997दिल तो पागल है
1993डर
1992परम्परा
1991लम्हे
1989चाँदनी
1988विजय
1981सिलसिला
1975दीवार
1973जोशीला
1965वक्त
1961धर्मपुत्र
1959धूल का फूल

 

पुरस्कार

यश चोपड़ा का फिल्मी करियर पाँच दशकों से भी अधिक का रहा है जिसमें उन्होंने 50 से अधिक फिल्में बालीवुड को दीं। उन्हें हिन्दी सिनेमा के इतिहास में एक ऐसे फिल्म निर्माता के रूप में जाना जाता है जिन्होंने छह बार राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार और कुल मिलाकर ग्यारह बार में से चार बार सर्वश्रेष्ठ निर्देशक के लिये फिल्म फेयर पुरस्कार मिला। भारत सरकार ने उन्हें 2001 में दादा साहेब फाल्के पुरस्कार दिया और 2005 में भारतीय सिनेमा के प्रति उनके योगदान के लिए पद्म भूषण से सम्मानित किया।

खासा आला चाहर की जीवनी – Khasa aala chahar Biography Hindi

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार

1990 में सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म, “चांदनी” के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार |
1994 में सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म, “डर” के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार |
1996 में सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म, “दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे” (निर्माता) के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार |
1998 में सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म “दिल तो पागल है” के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार |
2005 सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म “वीर – जारा” के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार |
1990 में सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म, “चांदनी” के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार |
1994 में सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म, “डर” के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार |
1996 में सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म, “दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे” (निर्माता) के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार |
1998 में सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म “दिल तो पागल है” के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार |
2005 सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म “वीर – जारा” के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार |

मृत्‍यु

13 अक्टूबर 2012 को, चोपड़ा को डेंगू बुखार का पता चला था और उन्हें मुंबई के बांद्रा के लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 21 अक्टूबर 2012 को 5:30 बजे 80 वर्ष की आयु में डेंगू बुखार के कारण यश चोपड़ा की मृत्यु हो गई।

Sonu Siwach

नमस्कार दोस्तों, मैं Sonu Siwach, Jivani Hindi की Biography और History Writer हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Graduate हूँ. मुझे History content में बहुत दिलचस्पी है और सभी पुराने content जो Biography और History से जुड़े हो मैं आपके साथ शेयर करती रहूंगी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close