रामनाथ कोविंद की जीवनी – Ram Nath Kovind Biography Hindi

August 24, 2019
Spread the love

रामनाथ कोविन्द भारतीय राजनीतिज्ञ और भारत के14 वें राष्ट्रपति है। वे राज्यसभा सदस्य तथा बिहार राज्य के राज्यपाल भी रह चुके हैं। कोविंद 1991 में भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के सदस्य बने और उत्तर प्रदेश के कानपुर नगर के घटमपुर लोक सभा क्षेत्र से पहली बार चुनाव लड़े और हार गए। बाद में कानपुर देहात के भोगनीपुर विधान सभा क्षेत्र से चुनाव लड़े और वो भी हार गए। बतौर संसद सदस्य रहते हुए उन्होंने सांसद निधि कोष का पूर्णतयः इस्तेमाल करते हुए उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखण्ड के ग्रामीण इलाकों में शिक्षा से जुडी विभिन्न आधारिक संरचनाओं का निर्माण कराया। तो आइए आज इस आर्टिकल में हम आपको रामनाथ कोविंद की जीवनी – Ram Nath Kovind Biography Hindi  के बारे में बताएगे।

रामनाथ कोविंद की जीवनी – Ram Nath Kovind Biography Hindi

रामनाथ कोविंद की जीवनी - Ram Nath Kovind Biography Hindi

जन्म

राम नाथ कोविंद का जन्म 1 अक्टूबर 1945 को उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात जिले के परौंख गाँव में एक मध्यम-वर्गीय परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम मैकू लाल तथा उनकी माता कलावती था। उनके पिताजी परौख गाँव के चौधरी थे। वो एक प्रख्यात वैद्य भी थे। उनके पास एक करियाना और वस्त्र की दूकान थी। कोविंद ने 30 मई 1974 को सविता कोविंद से शादी की। उनका एक बेटा प्रशांत कुमार और एक बेटी श्वेता है।

लम्बाई

  • उनकी  लंबाई 5 फीट 8 इंच है।
  • उनका वजन लगभग  68 कि० ग्रा० है।

संपति

2014 के अनुसार उनकी कुल संपति लगभग 1.41 करोड़ रुपए है।

शिक्षा

रामनाथ कोविंद की प्रारंभिक शिक्षा संदलपुर ब्लॉक के ग्राम खानपुर परिषदीय प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक विद्यालय से हुई। बी. एन. एस. डी. इंटरमीडिएट परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद उन्होंने डी.ए. वी. कॉलेज से बी.कॉम तथा डी. ए. वी. लॉ कालेज से विधि स्नातक की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद रामनाथ कोविंद ने दिल्ली में रहकर आई. ए. एस. की परीक्षा तीसरे प्रयास में पास की, लेकिन मुख्य सेवा के बजाय एलायड सेवा में चयन होने पर उन्होने नौकरी ठुकरा दी।

Read This -> नरेंद्र मोदी की जीवनी – Narendra Modi Biography Hindi

करियर

  • कानून की पढ़ाई पूरी करने के बाद, उन्होंने लगभग 16 वर्षों तक वकील के रूप में अभ्यास किया, जिसमें उन्होंने दिल्ली के गरीब और जरूरतमंद लोगों को मुफ्त कानूनी सेवाएं प्रदान की।
  • उन्होंने 1977 और 1978 के दौरान प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई के व्यक्तिगत सहायक के रूप में काम किया।
  • वर्ष 1991 में, कोविंद भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय प्रवक्ता के रूप में कार्य किया।
  • उसके बाद उन्होंने कानपुर नगर के जिले घटमपुर और भोगिपुर निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा चुनाव लड़ा, लेकिन दोनों जगहों से वह हार गए थे।
  •  इसके बाद वर्ष 1994 में उन्हें राज्यसभा के सांसद सदस्य (एमपी) के रूप में निर्वाचित किया गया। बीजेपी के सदस्य होने के नाते, उन्होंने राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया।
  • वर्ष 1998 से वर्ष 2002 के बीच वह बीजेपी के अनुसूचित जाति दलित मोर्चा और अखिल भारतीय कोली समाज के अध्यक्ष रहे।
  • अक्टूबर 2002 में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए उन्होंने न्यू यॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र की आम सभा को संबोधित किया।
  • उन्होंने 8 अगस्त 2015 को भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के द्वारा बिहार के राज्यपाल 36 वें के रूप में शपथ ग्रहण की थी।
  • उन्हें जून 2017 में राष्ट्रपति पद के लिए सत्तारूढ़ एनडीए सरकार भारत के राष्ट्रपति के लिए नामंकित किया गया था, वहीँ यूपीए उम्मीदवार मीरा कुमा को 66% वोटों से हराकर जुलाई 2017 में भारत के 14 वें राष्ट्रपति के रूप में उन्होंने शपथ ग्रहण की।
  • वे बी० आर० अम्बेडकर विश्विद्यालय, लखनऊ और भारतीय राज्यपाल प्रबंधन संस्थान, कोलकाता के प्रबंधन मंडल के सदस्य भी रहे हैं।
  • बतौर संसद सदस्य रहते हुए उन्होंने सांसद निधि कोष का पूर्णतयः इस्तेमाल करते हुए उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखण्ड के ग्रामीण इलाकों में शिक्षा से जुडी विभिन्न आधारिक संरचनाओं का निर्माण कराया।

विवाद

2010 में, उन्होंने कहा था कि भाजपा के प्रवक्ता के रूप में “इस्लाम और ईसाई धर्म राष्ट्र के लिए विदेशी हैं”।  जैसा कि आईएएनएस द्वारा रिपोर्ट किया गया और हिंदुस्तान टाइम्स द्वारा प्रकाशित किया गया, उन्होंने रंगनाथ मिश्रा आयोग के जवाब में यह टिप्पणी की जिसमें सरकारी नौकरियों में धार्मिक और भाषाई अल्पसंख्यकों के लिए 15 प्रतिशत आरक्षण की सिफारिश की गई थी। हालाँकि हाल ही में, इस मुद्दे को मीडिया में उठाया गया था कि क्या वह गलत है या नहीं और उसने कहा कि वास्तव में उन्होंने कहा “इस्लाम और ईसाईयत इस धारणा (जाति का) के लिए विदेशी हैं” जैसा कि “राष्ट्र” के रूप में रिपोर्ट किया गया था।

Read This -> अटल बिहारी वाजपेयी की जीवनी – Atal Bihari Vajpayee Biography Hindi

पुस्तक

The Republican Ethic: President Ram Nath Kovind Selected Speeches (July 2017-July 2018) – 2018

पुरस्कार

  • राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को गिनी की सरकार ने अपने देश के सर्वोच्च पुरस्कार से सम्मानित किया। पश्चिमी अफ्रीकी देश गिनी ने राष्ट्रपति कोविंद को ‘नैशनल ऑर्डर ऑफ मेरिट’ पुरस्कार से नवाजा गया उन्हें ये सम्मान भारत-गिनी के समग्र संबंधों की प्रगति तथा दोनों देशों में मित्रता को बढ़ावा देने में योगदान के लिए दिया गया है।
  •  उन्हे क्रोशिया का ग्रैंड ऑर्डर ऑफ किंग तोमिस्लाव विद सैश एंड ग्रैंड स्टार पुरस्कार से सम्मानित किया गया। कोविंद को यह सम्मान भारत और क्रोशिया के बीच आपसी सहयोग बढ़ाने में अहम योगदान के लिए दिया गया।

Leave a comment